Wednesday, December 3, 2008

On Being A Common Man...

The country is facing attacks, explosions repeatedly, and resulting into common man loosing their lives. That makes us feel like what are we waiting for, when will stand up and clean our house. Mumbai, where millions manage their bread and butter, now has become a battle ground, where for a common man, the question is to Stay Alive first, not the Food. There are so many questions, which are left behind after these incidents. Those who have been chosen by us, for our nation, for its citizen, have to answer those questions. By this time, everyone would have understood that whatever happed, starting from 26t's night, is not an extempore play, but a result of well planned and practiced act maniac mind. The terrorist, who according to Police Sources and Media, arrived same day or a day before on scene using some boat, are not the only who are involved in this activity. There must have been several others who were staying in the city, and would have been executing the mock trials this act.
Those who arrived from somewhere, they just gave the plot to this havoc and provided the initial thrust to whole activity. Like may be, some terrorist were already staying in Oberoi and Taj, and have been observing strategic positions, so that they can have an edge on Security arrangements, because only guns and explosive can not let them do what they were intended to. There were indeed some people, already checked in hotel with some guns/explosive etc. Because the way they were using their ammunition, it seems they have huge amount of it, 2-3 person can not carry that much of explosive to fight the nation’s so called Top security forces for 2-3 days.
Now the very first biggest question that arises is that all these explosives should not have even reached Mumbai. What is our Border Police meant for, and what Coast Guard has been doing then? Just think if these malicious minds would have been stopped on border, we might not have been forced to face this condition. This type Lack in Security Arrangements also put a question mark on utility of our Intelligence Agencies, what they are meant for, if they are working like some state police.

Second question is that, unfortunately, our country has been facing terror attacks since years, we have witnessed enough blood shed of our brothers and sisters, was that all not more than enough to open the eyes of our Great Politicians, who boast to be our true leaders, to enhance the security arrangements, beef up the safety arrangements and groom up intelligence activity, pack all the three land, water, and air borders, review and update the Security Policies to put a check on each and every small and big doubtful activity? Why was there only some Policemen fighting with Terrorist using their Service Revolver and old junk rifles for hours, while their opponents were having sophisticated automated weapons? Why do we not have advanced security measures in sensitive areas? Why the Terrorism has got the first priority when we talk but it’s missing from our Actions?

When everything was over, it was not a good morning indeed...the scene actually there was something where the mass was responding to the current situation beyond the limits of words...?
Some reputed news channels were propagating the same old rhyme that “its Mumbai…it goes on…etc.” knowing that it does go on but not because it has guts.
But it’s because common man have no other choice. They are feeling helpless.
Those innocent common men are asking questions to themselves that “Is there nothing we are left with to hold the control of our own lives? And those poor people are forced to answer their own question with a real “BIG NO”. More or less this is the theme everywhere else in our country...And those self centered, squirt politicians who are being chosen by us are the one playing football with our heads...We are so unfortunate that our protector is the head of manslayer...
Similarly there are many more questions that must be answered, but whatever is being inscribed here is the voice of Common Man, without any Statistic and Analysis, which is the favorite act of our loving and caring Politicians. In current scenario, I feel that Lack of Leadership is the worst curse, and this is what making a common man feel helpless...that we are left with nothing we can count on...and we can go to someone and say. “Dear Sir! Please do something for heaven sake... and don’t let us die like insects.” We are forced to live with a kind of intermediate anger blended with fear that tomorrow we have to reach office to keep managing our bread and butter...There is no question of guts absolutely.

During conversation with one of my friend I said “I feel like I am choking when I found myself bound to live with this kind of imbalance and havoc sucks when I breathe...” He replied “It’s same everywhere brother. It’s like pollution and you have to live with it. Our body adjusts to pollutions and our minds to such acts.” He is very true, in present scenario. But my problem is that “I don’t want to carry the blame of transferring this kind of society and place to our coming generation... but is it like really there is no other way to run? That friend of mine, still foresee some rays of hope, amidst the fog of dashing hopes and says that “We are reluctant to find a way, it seems now.” Adding to his thoughts, he concluded that when there were Kings like Shiva Ji Maharaj, then too there were intruders and invaders like Afzal Khan, Shahiste Khan but they were handled by our Prajaa-Paalak. And now days also, still we have them; we term them as Terrorist but unfortunately our Rulers lack in handling them. We are unfortunate enough to have that Janta Raja again in our Country, who respects the glory of our nation as mother-land and not just as a piece of land to live and die.

And at last but not least, media is loosing the sense of responsibility towards nation and its citizen. During more than 51 hours battle against terrorist, there have been several occasions that keep media in witness box. They started covering the whole scene as if they are in some kind of race, to spread any rubbish type of news, let it be the news that spread out about Terrorist having killed their mastermind in some boat, or rumors on number of Terrorists, or the spicy approach of showing visuals of terror site or helping terrorists by covering each and every activity of Security Team and there are many more. Wake up brothers and sisters, our country need us. May those who lost their lives, their soul rest in peace, and their force remain with us, and help us to come out of our sub-consciousness to protect our mother-land. Vande-Maataram.

Wednesday, November 26, 2008

'आतंकवाद की जड़ सोनिया गांधी'

विश्व हिंदू परिषद के अशोक सिंघल ने अब यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी पर खुलेआम हल्ला बोल दिया है। उन्होंने साध्वी और अभिनव भारत से ध्यान हटाने के लिए सारी आतंकी गतिविधियों के तार सोनिया से जो़ड़ दिए हैं। उन्होंने कहा है- "एक विदेशी महिला और उससे जुड़े दुनिया के सबसे खतरनाक हिंसक गुप्त संगठन ओपस डेई को इस काम के लिए साल पहले से ही लगाया गया है। एक विदेशी महिला ने साल पहले ही इसका रहस्योदघाटन किया था। इस बात की जांच कराई जाए कि ओपस डेई और सोनिया गांधी के बीच क्या संबंध है। ओपस डेई भी वेटिकन सिटी का है और सोनिया भी वही की है। वहीं से भारत में ये सब गड़बड़ी फैलायी जा रही है। ऐसा करने से ही पता चल पाएगा कि संजय गांधी, इंदिरा गांधी और राजीव गांधी जैसे लोगों की हत्याओं में किसका हाथ था। इसकी भई गहराई से निष्पक्ष जांच होनी चाहिए कि तथाकथित हिंदू आतंकवाद के पीछे कौन-से तत्व हैं। जांच होगी तो खुद--खुद साफ हो जाएगा कि कौन से लोग इस देश की धर्म, संस्कृति पर हमला कर रहे हैं और हमारे संतों और हिंदू संगठनों के प्रति आस्था खत्म करने की खतरनाक साजिश रच रहे हैं........."
तो एक ओर तो सिंघल बाबा सोनिया गांधी को विदेशी मूल के मुद्दे पर ओपस डेई से जोड़कर घेर रहे हैं, तो वहीं दूसरी ओर ये भी खुलासे हो रहे हैं कि मकोका अदालत में साध्वी प्रज्ञा ने एटीएस पर जो संगीन आरोप लगाए हैं कि उसे अश्लील सीडी दिखाई गई, उसे मारा-पीटा गया, कई दिन तक भूखा रखा गया, वो सब के सब आरोप झूठे हैं॥और ये सब कर्नल पुरोहित के सिखाए हुए आरोप हैं। पंचमढ़ी में ट्रेनिंग के वक्त ही उसने अभिनव भारत के कार्यकर्ताओं को सिखाया कि अगर पकड़े जाओ तो अदालती कार्रवाई में एटीएस पर संगीन आरोप लगा दो...ऐसे ऐसे आरोप लगाओ कि फिर एटीएस के पास बचने का कोई रास्ता ही बचे.......और फिर अपने घरवालों को भी सिखा दिया है कि एटीएस के खिलाफ मानवाधिकार की दुहाई देकर जांच किसी और को सौंपने की मांग करो।.......मीडिया में भी मानवाधिकार को लेकर एटीएस की काफी छीछालेदर की जा रही है.....तो फिर वही सवाल ख़ड़ा हो जाता है कि पुलिस जब कड़ी कार्रवाई करे तो मानवाधिकारों की दुहाई देकर आतंकवादियों को बचाया जाने लगता है।......अब तक आतंकवादी मुस्लिम थे....लेकिन अब पकड़े गए आतंकवादी हिंदू हैं.....फर्क बहुत ज्यादा नहीं है। पुलिस से उम्मीद भी की जाती है आंतकवादियों पर नकेल कसे.......धमाके ना हो......लेकिन फिर जब पकड़ लेती है तो मानवाधिकार को हथियार बनाकर आरोपी उल्टे पुलिस पर ही दांव चलाने लगते हैं।ऐसे में सच क्या है ये जानना वैसा ही हो गया है जैसे घुप्प अंधेरे में आपको छो़ड़ दिया जाए और कहा जाए मछली की आंख पर निशाना लगाओ.......औऱ इसे ही कहा जाता है अंधेरे में तीर छोड़ना.........

Saturday, November 8, 2008

हिन्दू शैतान बनाम ईसाई भगवान् -2

ऐसी हालत सिर्फ़ उन्ही राज्यों की नहीं है जहां बबाल मच रहे है , कमोबेश सारे आदिवासी बहुल राज्यों की यही दशा है । एक डॉक्युमेंटरी के सिलसिले में छत्तीसगढ़ के मैनपाट जिले में जाना हुआ था । मैनपाट कोरबा और पाहाड़ी कोरवा बहुल इलाका है । पहाड़ी इलाका होने के कारन यहाँ सड़क संपर्क बस कामचलाऊ ही है । बाक्साइट के खानों के इस इलाके में ज्यादातर लोग आजीविका के लिए बाक्साइट के खानों पर ही निर्भर है जो साल में ६ महीने चलती है । बाकी के ६ महीने मश्क्कत के होते है । इन इलाके में ज्यादातर जमीन सरकारकी रिकॉर्ड में आदिवासियों के पास है पर जमीनी हकीकत इसके उलट है ज्यादातर जमीनों पर बाहरी लोगों का कब्ज़ा है और मजे की बात ये की वो उन उन्ही से करवाते हैं जो उनके मालिक होते है । और बदले में उन्हें मिलता है बस पीने को कुछ रुपये और शाराब aisa नही है की इनकी हालात से सरकारी और गैर सरकारी संगठन अनजान है । ६ दिनों में मैं ऐसे १०-१२ गैर सरकारी संगठनों से मिला जो आदिवासियों की दशा और दिशा सुधाने में लगे है पर नतीजा सिफर । पिछले २१ दिनों से कंधमाल में हूँ शायद अभी कुछ और दिन रहूं । यहाँ की कहानी भी इससे इतर नही । अभी हाल तक कंधमाल चैनलों में छाया रहा । केन्द्र में बैठे मठाधीशों ने इसपर खूब राजनीति की अन्धाधुंध बयान दिया अब भी लोग आ रहे है । कंधमाल में बहुत बबाल हुआ काफी लोग मारे गए , चर्चो को तोड़ा गया मैं इसका समर्थन नही कर रहा पर मेरे हिसाब से आज भी कंधमाल में जो स्थिति है अगर फिर कोई बड़ी घटना हो तो कोई आश्चर्य नही होना चाहिए।

कंधमाल कुछ तथ्य : आदिवासी बहुल इस जिले का इतिहास ज्यादा पुराना नही । सात लाख की आबादी वाले इस जिले में ५२ फीसदी कंध (आदिवासी) है । यहाँ झगरा कंधो और पणों (दलित) के बीच में है । इलाके की ५८ % जमीनों पर जहाँ कन्धों का कब्ज़ा है (सरकारी हिसाब) से वही १० % जमीन दलितों के पास है ।बाकि सामान्य लोगो के हिस्से है। कन्धों की आजीविका का मुख्या साधन जंगल और उनके उत्पाद है अपनी जमीनों पर खेती वो पणों की मदद से करते है (हालाकि अब ये पुरानी बात हो गई ) । यहाँ चर्च का प्रवेश १९२० में हुआ इसका कारण ये था की ब्रिटिश शासन के दौरान कंधमाल मद्रास के अंतर्गत गुमुसुर सब - डिविजन का पार्ट था । यहाँ बाली गुंडा और भजनगर में सबसे पहले चर्च की स्थापना हुई थी। इंडस्ट्री के नाम पर यह उड़ीसा के पिछड़े इलाको में से एक है । इस जिले में कुल १.३२ करोड़ की ६५ स्माल स्केल इंडस्ट्री है।
क्या है क्लेश : कंधमाल आर्थिक असमानता ,शोषण और अवैध मतान्तरण का जीता जागता उदाहरण है । इस तात्कालिक सांप्रदयिक संघर्ष का कारणमात्र मतान्तरण नहीं है । स्वामी जी की हत्या तो बोस्टन टी पार्टी की तरह एक तात्कालिक कारण है । इसका मूल कारण तो पर्णों के द्वारा लबे समय से किया जा रहा शोषण है जिनमे ये ईसाई मिशनरियां इन पणों की मदद करती है । पणों ने हमेशा से बिचोलिये की तरह काम किया है । ब्रिटिश शासन के दौरान अंग्रेजो के कृपा पात्र (क्योकि इनके बीच तभी से धर्मान्तरण शुरू )के रूप में कभी इन्होंने लगान वसूल करने का काम किया तो कभी नमक का । कंधो से संख्या में काफी काम होने के बाद भी दिन प्रतिदिन इनकी सामाजिक आर्थिक स्थिति सुधरती चली गयी । किसी भी समुदाय को अपनी आर्थिक स्थिति सुधरने और आगे बढ़ने का पूरा हक़ है लेकिन किसी अन्य समुदाय के शोषण की कीमत पर नहीं। पणों ने ना केवल उनका शोषण किया बल्कि उनकी जमीनों संसाधनों पर भी कब्ज़ा किया और तो और आजादी के बाद जब धर्मान्तरि दलितों के आरक्षण पररोक लगी तो पणों ने एक नया रास्ता निकाला । आमतौर पर पाणों की बोलचाल की भाषा उड़ीया और कंधो की कुई है ( यह एक स्क्रिप्ट लेस भाषा है ) पणों ने कुई सीख ली थी उसका प्रयोग करके खुद को आदिवासी बताकर आरक्षण का लाभ लिया , फर्जी जाति प्रमाण पात्र बनवाए और उनका लाभ नौकरियों में एवं अन्य कार्य में किया । इसके लिए केस भी हुआ की उन्हें आदिवासी की मान्यता दी जाये क्योकि वो लिए कुई बोलते है । इसाईयों की आबादी को अगर देखे तो इस बात की तस्दीक होती है । ९१ में उनकी संख्या ७५ हजार थी जिसके जो०१ में बढ़ कर तक़रीबन सवा लाख हो गई वो भी उड़ीसा स्वतंत्र अधिनियम लागू होने के बाद । जिसके अनुसार हर मतान्तरण के लिए कलेक्टर की इजाजत जरुरी है । २००१ से नक्सलियो के क्षेत्र में सक्रिय होने से पणों को और बल मिला नक्सलियो ने पानो को प्रशिक्षित करना शुरू । इलाके के लोगों के अनुसार इसके एवज में उन्हें पैसा ईसाई मिशनरियों से मिलता है । फादर कल्तित का कहना है की कोई धर्मान्तरण नहीं हुआ तो फादर आखिर जिले में ईसाई जनसँख्या इतनी कैसे हो गयी ?

Friday, November 7, 2008

हिंदू शैतान बनाम ईसाई भगवान् - 1

सितम्बर में कर्नाटक के उत्तर कनाडा में था जब हिंदू बनाम ईसाई के सांप्रदायिक तनाव और चर्च के तोड़ने की घटना अखबारों की सुर्खिया बन रही थी । मैं कर्नाटक में आगामी संभावित बिधानसभा चुनावों के मद्देनज़र ओपिनियन पोल में जुटा था । उत्तर कनाडा में ये मेरा तीसरा दिन था । हिन्दुओ ने यहाँ भी चर्चो को निशाना बनाया था । यही पर मेरी मुलाकात रोजी से हुई। ४२ साल की इस महिला की बेकरी की दुकान है । मैं इसकी दुकान के पास के एक होटल में ठहरा था । ५-७ दिनों में अच्छी जान -पहचान हो गई थी । रोजी पहले हिंदू थी । पति की मृत्यु के बाद उसके सामने जब रोजी रोटी की समस्या खड़ी हुई तो इसने पास के दो -चार ईसाई घरों में सफाई वगैरह का काम शुरु किया । इसी क्रम में इसकी मुलाकात एक नन से हुई । वो उस घर में आती थी जहाँ रोजी काम करने जाती थी । उस नन ने इसको कोई अपना काम करने की सलाह दी, उसके छोटे बच्चो का हवाला दिया इसके बाद रोजी अपना कोई बिज़नस करने को तैयार तो हो गई लेकिन उसके सामने पूंजी का सवाल अब भी था । ऐसे में उसकी मदद की उसी नन ने । उसने रोजी को कही से ५०,००० रुपये का क़र्ज़ दिलवाया और उसकी बेकरी की दुकान खुलवाई । रोजी अब तक हिंदू ही थी । दुकान खुलने के बाद उसके घर का खर्च तो दुकान की आमदनी से चलता पर खर्च से ज्यादा बचना मुस्किल था जिससे क़र्ज़ अदा की जाए । क़र्ज़ की रकम दुकान खुलने के सात महीने के बाद भी क़र्ज़ की रकम जस की तस् थी। बकौल रोजी " मैं इसी दुकान से उतना नही कमा पा रही थी की क़र्ज़ भी चूकौ । तब रोजी के सामने ये विकल्प रखा गया की अगर बप्तिस्ता ले ले तो उसका पुरा क़र्ज़ केन्द्र सरकार के लोन योजना माफी की तरह माफ़ हो सकता है । अंत में वही हुआ उसने ईसाई धर्म स्वीकार किया और अपने ५०,००० के क़र्ज़ से मुक्त हुई। अब भाई एक गरीब हिंदू होने से अमीर ईसाई होना ज्यादा भला है । तो यह थी पी शांति के ईसाई बनने की कहानी । आदिवासी बहुल राज्यों में ऐसी अनेक शांति मिलेंगी जिनके साथ कमोबेश ऐसा ही कुछ हुआ होगा । ईसाई मतान्तरण उनके निज के विश्वास और धारणा का परिणाम नही बल्कि जिन्दगी जीने की उनकी जद्दोजहद और रोटी के संघर्ष का परिणाम है । मैं अबतक दसेक ऐसे लोगो से लोगो से मिल चुका हूँ जिनका मतान्तरण पहले क़र्ज़ देकर और बाद में उनका क़र्ज़ माफ़ कर के किया गया। क्रमश ........

Wednesday, November 5, 2008

ओबामा या ओ(ह)बामा !

ओबामा की जीत पर पूरा अमेरिका जश्न मना रहा है...लेकिन ओबामा की जीत भारत के लिए चिंता का सबब बन सकती है...ओबामा ने अब तक जो किया है अगर उसे देखा जाए तो ओबामा का राष्ट्रपति बनना भारत के माथे पर चिंता की लकीरें बढ़ाने वाला ही है।
ओबामा की जीत से जहां ज्यादातर अमेरिकियों की खुशियों का ठिकाना नहीं है, वहीं भारत के माथे पर चिंता की कई लकीरें उभर आई हैं....चिंता की पहली लकीर है कश्मीर समस्या में अमेरिकी दखल...ओबामा कश्मीर को पाकिस्तान की समस्या मान रहे हैं और इस पर अमेरिकी मध्यस्थता करना चाहते हैं.....चिंता की दूसरी लकीर है आउटसोर्सिंग पर पाबंदी...ओबामा नहीं चाहते कि नौकरी के लिए अमेरिकियों को दूसरे देश से आए लोगों से कंपटीशन करना पड़े...चिंता की तीसरी लकीर है...चंद्रयान पर टेढ़ी नजर...ओबामा चंद्रयान मिशन को अमेरिका के अंतरिक्ष पर एकछ्त्र नियंत्रण की राह में खतरा मानते हैं...चिंता की चौथी लकीर है न्यूक डील के बदले सीटीबीटी पर दस्तखत...राष्ट्रपति बनने के बाद वो भारत पर सीटीबीटी पर दस्तखत करने का दबाव बना सकते हैं...चिंता की पांचवीं लकीर है आतंकवाद पर ओबामा की राय...ओबामा आतंकवाद के सफाए के लिए पाकिस्तान की खुले दिल से मदद करना चाहते हैं....चिंता की छठी लकीर है...कृषि पर सब्सिडी....ओबामा अमेरिकी किसानों के लिए ज्यादा सब्सिडी की वकालत करते हैं...जो भारतीय किसानों के लिए परेशानी का सबब बन सकता है...चिंता की सातवीं लकीर अप्रवासी भारतीयों के लिए है....ओबामा अप्रवास-क़ानूनों में 'एच वन-बी' वीज़ा-कार्यक्रम शामिल कर उसे और पेचीदा बनाने वाले हैं.......ये तो रही ओबामा की नीतियां...इसके अलावा भी ओबामा का भारत विरोधी रुख कई बार देखने को मिला है... राष्ट्रपति चुनाव के पहले चरण के वक्त ओबामा इस बात से खासे नाराज थे कि हिलेरी क्लिटंन भारतीय कंपनियों में पैसा लगा रही हैं, और आउटसोर्सिंग के जरिए अमेरिकियों के हिस्से की नौकरी भारतीयों को दे रही हैं.......तो साफ है, ओबामा की जीत पर फिलहाल भारतीय सियासतदान भले ही खुश हो रहे हों...लेकिन आने वाले दिनों में जब उनकी खुशफहमी दूर होगी..तो उनके माथे पर ढेर सारी चिंता की लकीरें उभर आएंगी....

Saturday, October 25, 2008

क्यों पुरबिया लोग पलायन करते है ...

आखिरकार क्यों पुरबिया लोग पलायन करते है ......कारण अशिक्षा , बेरोजगारी , गरीबी और बढ़ते अपराध है । इनके पीछे क्या कोई यह जनता है की कारण कौन है ????? जवाब आता है वही राजनीती की अड़ंगेबाजी। बिहार में कभी लालू की कभी नीतिश की ..... उत्तर प्रदेश में माया मुलायम भी कम नही है । कहने को तो इन प्रदेशो में खनिज संसाधनों की कमी नही है लेकिन रोजगार के तो जैसे लाले पड़ गए है
उद्योग धंधो की कमी के चलते ये यू पी और बिहार के लोग महानगरो की ओर रुख करते है और वहां जगह भी बना लेते है । इसमे कोई संदेह नही है कि ये पुरबिया मेहनती और इमानदार है। लेकिन ये कम अपने यहाँ भी किया जा सकता है । इसके लिए जरुरत है सरकार क खिलाफ एक आन्दोलन कि एक क्रांति कि ।
क्यो ये पुरबिया मजबूर है पलायन
के लिए ?
अब जवाब ये निकल के आता है यहाँ कि सरकार जो विगत पच्चीस सालो से यहाँ राज कर रही है । क्यों महाराष्ट्र और अन्य महानगरो में उत्तर प्रदेश और बिहार कि अपेक्षा रोजगार अधिक है । देश के संसद में सबसे ज्यादा प्रतिनिधित्व ये पुरबिया ही करते है तो अपने प्रदेश में विकाश के नाम पे इनकी संख्या कम क्यो हो जाती है ?
हमारा ये मानना है की राज ठाकरे को दोष देने के बजाय ये पुरबिया अपने नेता लालू , नीतिश , मायावती , और मुलायम को दोष दे तो ज्यादा ठीक होगा । ये वो नेता है जिनके कारण ये पुरबिया पलायनवादी रुख अख्तियार करते है ।
कहते है राजनीती में सब जायज है तो राज ठाकरे की राजनीती भी एक तरीके से जायज है । जब ये उत्तर प्रदेश और बिहार के नेता अप्रत्य्क्ष्य रूप से प्रदेश को खोखला कर रहे है तो राज ठाकरे प्रत्यक्ष्य रूप से अपने वोट बैंक को मजबूत कर रहे है ।
देखना यह है की ये वोट की राजनीती कब तक चलती रहेगी ? कब तक हम मासूम जनता इन राजनीती के ठेकेदारों की बलि चढ़ते रहेंगे? ? ?

Thursday, October 23, 2008

राज ठाकरे का नेक्स्ट प्लान

राज ठाकरे मुचलके पर रिहा होने के बाद क्या करेंगे, पेश है उनका अगला प्लान, वो इसका ऐलान जल्द ही कर देंगे -
राज ठाकरे क्लास में सेंकेंड आने वाले छात्र को सिखाएंगे कि फर्स्ट नहीं आ रहा तो कोई बात नहीं, फर्स्ट आने वाले छात्र को लात मार बाहर धकेल दो.
संसद में केवल दिल्ली के लोग ही जा सकेंगे क्योंकि ये दिल्ली में है.
प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति और दूसरे बड़े पदों पर केवल दिल्ली के लोग ही हो सकेंगे.
मुंबई में कोई हिंदी फिल्म नहीं बनेगी, केवल मराठी फिल्म बनेगी.
हर राज्य की सीमा पर बस, ट्रेन और हवाई जहाज रोक दिए जाएंगे और उनके स्टाफ बदल दिए जाएंगे, लोकल स्टाफ भर्ती किए जाएंगे.
महाराष्ट्र के जितने लोग दूसरे लोग दूसरे राज्यों मे काम कर रहे हैं, उनको वहां से निकाल दिया जाएगा, क्योंकि वे स्थानीय लोगों की नौकरियों पर हमला बोल रहे हैं.
भगवान शिव, गणेश और पार्वती की पूजा महाराष्ट्र में नहीं होगी क्योंकि वो उत्तर के देवता हैं...हिमालय में उनका घर है.
ताज महल देखने केवल उत्तर प्रदेश के लोग ही जा सकेंगे.
महाराष्ट्र के किसानों के लिए केंद्र से किसी तरह का पैसा नहीं लिया जाएगा क्योंकि ये पैसा तो पूरे देश का है, फिर केवल महाराष्ट्र को कैसे दिया जा सकता है.
महाराष्ट्र से तमाम मल्टी नेशनल कंपनियों को भगा दिया जाएगा. इन विदेशी कंपनियों का यहां क्या काम. उनकी महाराष्ट्रा माइक्रोसाफ्ट, महाराष्ट्रा पेप्सी और महाराष्ट्रा मारुति कंपनियां खोली जाएंगी.
अब कोई भी मोबाइल पर मराठी के अलावा किसी भी भाषा बात करते पाया गया तो उसका मोबाइल तोड़ दिया जाएगा.
महाराष्ट्र में किसी के घर में टीवी पर मराठी के अलावा किसी और भाषा के कार्यक्रम नहीं चलेगा. अगर ऐसा होता है तो उनका टीवी तोड़ दिया जाएगा...जेम्स बांड की फिल्म देखनी है तो पहले मराठी में जेम्स बांड का अनुवाद होगा.
हम मर जाएंगे, 10 गुने दाम पर अनाज खरीद कर खाएंगे लेकिन दूसरे राज्यों से अनाज नहीं मंगाएंगे. इसके लिए हम संकल्प लेंगे.
कोई भी ट्रेन किसी मराठी ने नहीं बनाई और रेल मंत्री भी बिहारी हैं. इसलिए सभी ट्रेनें रोक दी जाएंगी.
महाराष्ट्र के बच्चों को हम बाहर बिल्कुल नहीं भेजेंगे. वो यही जन्म लेंगे, यही पढ़ाई करेंगे, यहीं नौकरी करेंगे, कमाएंगे-खाएंगे और मर जाएंगे, उन्हें कहीं बाहर नहीं जाना होगा, तभी वे सच्चे मराठी कहलाएंगे.
ये सारी बातें राज ठाकरे की आइडियोलॉजी को प्रोजेक्ट करके लिखा गया है. मुझे ये सब एक मेल के जरिए प्राप्त हुआ.

Wednesday, October 22, 2008

राजा के दो सींग, किम-किम-किम ?

बचपन में एक कहानी सुनी थी...जिसका शीर्षक यही था - राजा के दो सींग, किम-किम-किम...
हुआ यूं कि बहुत पहले एक राजा हुआ करता था जिसके सिर पर दो सींग थे...इसे छुपाने के लिए वो हमेशा ही मुकुट पहने रहता था...बाल काटने वाला नाई ही जानता था कि उसके सिर पर सींग हैं...पुस्तैनी नाई की मौत के बाद राजा पर चिंता के घनघोर बादल मंडराने लगे कि अब उनके बाल कौन काटेगा...क्यों कि जो भी काटेगा ये राज सबको बता देगा कि राजा के दो सींग हैं...किसी तरह खोज कर एक नाई लाया गया...नाम था - बब्बन. जब राजा जी ने बाल कटवाने के लिए अपना सिर नाई के आगे किया तो बब्बन हजाम ठठाकर हंसने लगा...उसे आश्चर्य भी हुआ और हंसी भी आई...खैर किसी तरह उसने राजा के बाल काटे...राजा ने उसे सख्त हिदायत दी कि अगर उसने ये बात किसी को बताई उसका सर कलम करवा दिया जाएगा...बब्बन डर गया..उसने किसी को नहीं बताया...दिन बीतते गए..बब्बन सबके बाल काटता रहा..लेकिन उस दिन के बाद से उसके पेट में एक अजीब तरह का दर्द रहने लगा...उसे लगता जैसे वो सींग वाली बात उसके पेट की दीवारों को खरोंच रही है और कह रही हो कि मुझे बाहर निकालो..मुझे बाहर निकालो....ज्यों-ज्यों दवा की मर्ज बढ़ता ही गया...बब्बन के पेट का घाव बढ़ता ही गया...एक दिन वो जंगल चला गया...और एक सूखे पेड़ के सामने सारी बातें जोर-जोर उगल दीं...अब वो हल्का महसूस कर रहा था....कुछ दिनों बाद राजा जी के यहां एक संगीत समारोह आयोजित हुआ...राजा की सल्तनत के अलावा दूर-दूर देश के कई राजा भी आए हुए थे...समारोह शुरु हुआ...शास्त्रीय संगीत का कार्यक्रम था...सारंगी, तबला और ढोलक पर साज दिए जाने थे..समां बंधा था...लेकिन बाजा बजते ही सबके कान चौकन्ने हो गए...कलाकार जो धुन निकालना चाहते वो निकली ही नहीं रही थी..कुछ और धुन निकल रही थी...सबने सुना...उस धुन को...सारंगी बजी- राजा के दो सींग...तबले की थाप से आवाज आई - किम..किम..किम...देर तक यही दोनों बड़-बड़ करते रहे..अब राजा को तो काटो तो खून नहीं...सिर पे सींग वाली इतनी छुपाने के बावजूद इतनी फैल गई कि बाजा भी बाजा फाड़के बोल रहा है कि राजा के दो सींग....अभी तक ढोलक वाला खामोश था...ढोलक पर हाथ पड़ते ही वो बोल पड़ा - बब्बन हजाम..बब्बन हजाम....

(अं अं अं माथे पर शिकन मत लाइए...आपका सवाल यही है ना कि ये कैसे हो गया, बताऊंगा लेकिन पहले आप बताइए कैसे हुआ होगा ऐसा...क्योंकि बहुत मुमकिन है आप जानते हों ?)

Wednesday, October 15, 2008

आखिर बहन जी को फायदा कया है ?

मोटे तौर पर देखा जाए तो यहीं लगता है कि मायावती ने गलती की है। एक रेल कोच फैक्ट्री को रोकने से यूपी को हुई घाटे की गलती, दूसरी कांग्रेस को तूल देने की गलती-जो कांग्रेस को बोनस के रुप में यूपी की सियासी जमीन पर मिल गया है। लेकिन बसपा के लिए इसके इससे भी बड़े मतलब हैं। आनेवाले वक्त में कांग्रेस को अगर किसी पार्टी से नुक्सान हो सकता है तो वो बसपा ही है। कांग्रेस के जो भी परंपरागत वोट बैंक थे, वो किसी न किसी पार्टी ने हड़प लिया है। सवर्ण बीजेपी के साथ तो मुसलमान बीजेपी को हराने के काबिल किसी के भी साथ है। दलितों का ही एक बड़ा वोट बैंक बचा था जो बसपा से पहले कांग्रेस को मिलता रहा है, कमोवेश अभी भी यूपी-बिहार से इतर मिलता ही है। लेकिन बहन जी इस बार बड़ी तैयारी में है। और वो वो जानती है कि यूपी में कांग्रेस को भले ही रेल कोच विवाद से थोड़ी सुर्खियां मिल जाए, उसका संगठन इस काबिल नहीं है कि बसपा विरोधी मतों का स्वभाविक दावेदार खुद को जता सके। दूसरी बात ये कि आकंठ जातिवाद में डूबी सूबे की सियासत कांग्रेस को कोई बड़ी उम्मीद नहीं देती।
फिर भी मायावती इससे क्या फायदा हो सकता है...? दरअसल, बहनजी सोनिया गांधी से सीधा टकराव लेकर अपनी देशव्यापी छवि को पुख्ता करना चाहती हैं। वो चाहती है कि ये टकराव जितना बढ़ेगा-मुल्क के दूसरे हिस्सों से दलितों की नाराजगी कांग्रेस से उतनी ही बढ़ती जाएगी। वो चाहती है कि ये नाराजगी बढ़ती जाए और पूरे देश के दलित बसपा की छतरी तले जमा हो जाए। और मायावती के लिए ये काम जितना कांग्रेस से लड़कर फायदे का हो सकता है, उतना बीजेपी के साथ लड़कर नहीं।मौजूदा वक्त में मायावती का ज्यादा असर यूपी के आलावा मध्यप्रदेश, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, और यूपी से सटे बिहार के इलाकों में है। मायावती चाहती है कि वो कांग्रेस से लड़कर उस आधार को पूरे देश में फैलाए। ऐसा नहीं है कि बसपा दूसरे जगह नहीं है। कर्नाटक विधानसभा चुनाव में पार्टी ने 3 फीसदी वोट बटोरे तो हिमाचल में 7 फीसदी। दोनों ही जगह कांग्रेस हार गई। लेकिन मायावती इसे और भी पुख्ता करना चाहती है।
लेकिन इस राह में कुछ व्यावहारिक दिक्कतें हैं। बहनजी ने देशभर में पार्टी संगठन को फैलाने में खास दिलचस्पी नहीं दिखाई है। वो यूपी से गद्दी से चिपके रहना चाहती है। साथ ही उन्होने पार्टी में दूसरी पंक्ति के नेताओं को तैयार नहीं किया है। देखा जाए तो ये बीमारी दलितों और पिछड़ों की तकरीबन हरेक पार्टी में है और ऐसे सभी नेताओं ने पार्टी नेतृत्व अपने खानदान वालों के पास ही रहने देने में दिलचस्पी दिखाई है। तीसरी बात ये कि बसपा के लिए या शायद पूरे दलित समाज के लिए कांशीराम कुछ पहले ही स्वर्ग सिधार गए।

मायावती के पास आज कांशीराम जैसा न तो थिंक टैंक है और न ही मायावती में कांशीराम बनने की संभावनांए हैं। मायावती पोलिटिशियन तो हैं-स्टेट्समैन नहीं। और यहीं वो कमजोरी है जो मायावती और बसपा के देश स्तर पर फैलने में रोड़ा हो सकती है। मायावतीको इसके िलए यूपी की गद्दी किसी काबिल नेता को सौंपनी होगी, और दिल्ली की सियासत में पूरा ध्यान देना होगा। क्योंकि देश की जनता का एक मनोविज्ञान है, वो देश का नेता उसे ही मानता है जो दिल्ली से राजनीति करे और संगठन को देशभर में फैलाए। लेकिन ये बड़े हिम्मत का काम है, यूपी का सीएम खुद को दलितों का मसीहा घोषित कर सकता है।और पार्टी कई बार टूट-फूट और बिखराव का शिकार बन सकती है।

लेकिन मायावती ने थोड़ा सा त्याग और संयम दिखाया तो इसमें कोई दो मत नहीं कि बसपा में काफी संभावनाएं हो सकती है।आखिर हमें ये सोचना चाहिए की वाजपेयी से लेकर नरसिंहराव और चंद्रशेखर तक ने पीएम बनने के लिए लंबे वक्त तक इंतजार किया-अगर वो चाहते तो काफी पहले शायद 60 या 70 के दशक में ही यूपी के सीएम बन जाते।लेकिन इतना तो तय है कि कांग्रेस से टकराव बसपा के अपने हित में है, यूपी का चाहे जो हो जाए।

माया - सोनिया के जंग में ......

माया सरकार के बारे में कहा जाता है कि ...माया अपने शासन काल में दोस्तों पे ज्यादा ही ध्यान रखती है और दुश्मनों पे पैनी नजर रखती हैअभी ताजा - ताजा विवाद उभर के सामने आया है वो रायबरेली का है जहाँ पर सोनिया सरकार कि एक महत्वाकान्छी योजना रेल कोच फैक्ट्री शुरू होने वाली थी१४ अक्तूबर को सोनिया शिलान्यास भी करने वाली थी बाकिर माया को ये सब मंजूर नही था
बात कुछ भी हो लेकिन इस माया - सोनिया के बीच विवाद में पिस रहे है आम लोगो के सपनेवो सब्जबाग सोनिया ने दिखाए थे चूर चूर हो गएग्रामीणों कि उम्मीदे कि ये थी कि फैक्ट्री लगेगी रोजगार मिलेगा , उन्हें क्या पता था कि राजनीती के आगे ये सब नही चलता
रेल कोच फैक्ट्री के बंद होने से वह के लोगो में काफी आक्रोश है , खून खराबे किसी भी स्थिति बन गई थी, शायद रायबरेली दूसरा सिंगुर भी बन जाताहाँ एक बात और कुछ भी घटना होती है तो आरोप प्रत्यारोप का दौर जरुर चलता हैमाया का कहना है किसी अगर सोनिया को उत्तर प्रदेश में विकास करना है तो तमाम जगह है जहा वो विकास कर सकती है रायबरेली के पीछे क्यो पड़ी है
इसका सबसे ज्यादा प्रभाव गरीब आदमी पे ही पड़ता हैफिलहाल गलती किसी कि भी हो चोट तो आम आदमी को ही लगती हैपेट तो आम आदमी का ही जलता है भाई ।

Monday, October 13, 2008

सिमी की तरह बजरंग दल पर भी बैन लगे, क्यों !

मांग उठ रही है बजरंगियों पर बैन लगाने की...मु्द्दे पर सबसे ज्यादा हो-हल्ला मचा रहे हैं सियासी गलियारों में दलाली के झंडे बुलंद करने वाले...राष्ट्रीय एकता परिषद की मीटिंग क्या गुल खिलाने वाली है..ये तो शाम तक पता चल जाएगा...फिलहाल अटकलों का बाजार गर्म है कि बजरंग दल पर बैन लग जाएगा...लेकिन जैसा कि पिछली बार कैबिनेट मीटिंग में ये विचार केवल एक विचार बन कर ही रह गया..बहुत मुमकिन है कि इस बार भी मामला टांय-टांय फिस्स हो जाए...तर्क दिया जा रहा है कि जैसे सिमी पर बैन
लगा वैसे ही बजरंग दल पर भी लगना चाहिए...यहां सवाल ये खड़ा होता है कि सिमी और बजरंग दल में कैसी समानता है...दोनों ही संगठन कट्टर माने जाते हैं...एक मुस्लिम कट्टरपंथी तो दूसरा हिंदू कट्टरपंथी...लेकिन जिस तरह की आतंकी वारदातें सिमी ने अंजाम दी हैं...क्या उस तरह का एक भी कारनामा बजरंग दल के नाम है !!कहने वाले कहेंगे कि हां है, परभणी,नांदेड़ और दूसरी कई जगहों पर मसजिद को बम से उ़डाने की साजिश...कानपुर में बम बनाते पकड़े गए दो बजरंग दल कार्यकर्ता...(नाम याद नहीं आ रहा)...या इससे भी पेट भी नहीं भरा तो गड़े मुर्दे उखाड़कर बजरंग दल को आतंकवादी करार दे देंगे...कहेंगे बाबरी मसजिद किसने गिरवाई...ग्राहम स्टेंस और उसके दो मासूम बेटों का कत्ल किसने करवाया...और भी ढेर सारे इल्जाम लगा दिए जाएंगे...लेकिन जिस तरह हिंदू ही नहीं किसी भी मजहब के आदमी के दिल में सिमी या इंडियन मुजाहिद्दीन का केवल नाम ही दहशत पैदा कर देता है...क्या वैसा डर बजरंग दल का नाम सुनकर किसी मुसलमान के दिल में पैदा होता है...अगर हां तब तो लगा देना चाहिए..बजरंग दल पर भी प्रतिबंध...लेकिन नहीं, तब तो ये सरासर ज्यादती होगी बजरंग दल के साथ...अगर मान लें कि राष्ट्रीय एकता परिषद की मीटिंग के बाद बजरंग दल पर प्रतिबंध लग ही जाता है...तो पहले तो बजरंग दल सड़कों पर उतर आएंगे..भयंकर विरोध करेंगे...प्रतिबंध लग जाने के बाद पुलिस इन कार्यकर्ताओं को पकड़कर जेल में बंद कर देगी...लेकिन यहां पर हमारे सियासी विचारक सिमी से इसकी एक समानता भूल जा रहे हैं...क्योंकि जैसे सिमी ने नाम बदल लिया और भूमिगत होकर काम कर रहे हैं....खतरनाक धमाकों को धमकाकर अंजाम दे रहे हैं वैसे ही बजरंग दल वाले भी तो कर सकते हैं....

Monday, October 6, 2008

राजधर्म जाए पर सत्ता न जाए

मित्रों, मैंने अपना ब्लॉग में कुछ लिखने का प्रयास किया है I आवस्य पढ़ें और अपना विचार/प्रतिक्रिया खुले दिल से लीखें I

नाम नमाज, काम सड़क जाम

....कल मेरे जख्मों पे अपनी हंसी के धमाकों का बारुद छिड़कने के बाद आज रोने, गुस्साने या अपना ब्लड प्रेशर फ्चक्चुएट कराने के लिए तैयार हो जाइए....!! क्योंकि आज मैं बताऊंगा कि क्या वजह है अपने रोड एक्सीडेंट को शेरनी का चुम्मा करार देने की.....रोज की तरह कल भी मैं अपने घर से तकरीबन १२ बजे निकला था, लेकिन पता नहीं कैसे दशहरी रावण दिमाग में घुस गया...और मैंने ५४३ नंबर की बस की बजाय ऑटो पकड़ लिया...यहीं से मेरे जख्म अंदर ही अंदर कुलबुलाने लगे, बस सही मौके की तलाश में थे बाहर आने के लिए.....ऑटो के बाहर बस पर लदे लोग...स्कूटर और बाइक पर बंदर की तरह चिपके लोग...कार की एसी में भी झल्ला रहे लोग चले रहे हैं....मैं भी चला जा रहा हूं...ऑटो में लदकर...मुझे भी लग रहा है जैसे मैं लदा हुआ हूं किसी पर...क्योंकि जहां कहीं भी नजर दौड़ा रहा हूं...हर किसी में बस एक ही चेहरा दिख रहा है....बस एक ही चेहरा......खैर, इसकी चर्चा फिर कभी...ऑटो आखिर ऑफिस पहुंच गया...दिवास्वप्नलोक और स्वप्न सुंदरी के आकर्षण की तंद्रा टूटी.....जेब टटोली...केवल ६० रुपए...किराया हुआ था ८० रुपए...ऑटोवाले से बोला- आगे एटीएम ले चलो....एटीएम गया....लेकिन वही हुआ जिसका डर लग रहा था.....दशहरी रावण ससुरा पहले ही पहुंच गया था और एटीएम मशीन के अंदर सारा पैसा मुंह में दबाकर बैठ गया था...मैंने चार बार मुंह से पैसा खींचना चाहा मगर जैसे उसे कलियुग बाबा का स्पेशल आशीर्वाद त्रेतायुग में ही मिल गया था....एसबीआई और पीएनबी दोनों की एटीएम मशीनों ने कुछ भी उगलने से इनकार कर दिया....''अब क्या....अभी कौन होगा...ऑफिस में.....फलां...फलां...फलां.......हुंह किसी ने नहीं मागूंगा....फालतू में क्यों एहसान लूं किसी का......''...अंदर के जख्म दिमाग पे बड़ी चालाकी से हावी होकर हीहीहीही कर रहे थे......ऑटो वाले को एक नया आदेश मिला....गढ़ी चलो वहां एचडीएफसी का एटीएम है....पैसा निकाल कर दे दूंगा.....मुझे याद नहीं था कि उस दिन शुक्रवार है....और शुक्रवार को तो दुनिया के तमाम सफेद जालीदार टोपी वाले अपनी-अपनी टोपियां झाड़-पोंछकर शान से निकलते हैं......कबीरदास जी की भाषा में किसी बहरी अलौकिक शक्ति को खुश करने के लिए सड़क को अपनी बपौती, अपने बाप-दादा की जागीर समझ कर घंटा भर उलटते-पुलटते रहते हैं.......ओखला मंडी और गढ़ी से पहले इतना ट्रैफिक था जैसे ओखला में प्रलय आ रही हो और सारे लोग ओखला छोड़कर जाने पर आमादा हों और बीच में इबादत करने रुक गए हों........मेरा ऑटो एक रिक्शेवाले और उस पर बैठी एक दंपति को बचाने के चक्कर में जा टकराया....कत्लेआम बाइ फटाफट स्पीड के लिए मशहूर ब्लू लाइन बस से....मैं अभी भी उन्हीं ख्यालों में खोया...उसी चेहरे के पीछे दीवाना....बस फिर क्या था मेरे जख्मों के लिए भरपूर मौका था निकल पड़े मेरे अंदर बाहर आकर अट्टहास करने लगे.......ऑटो घूमा ४५ डिग्री के कोण पर मैं घूमा ९० डिग्री के कोण पर और धप्प...आवाज नहीं हुई....लेकिन सुनाई सबको दे गई...धरती मां ने काफी समय से मुझे गले नहीं लगाया था.....सो उस दिन उनकी हसरत पूरी हो गई.....कलेजे को ठंडक मिल गई.....और गले मिलने की निशानी भी देती गईं मुझे.....मेरे जख्म अब अपनी लंबी-लंबी लाल-लाल जीभ निकाल कर चिढ़ा रहे थे मुझे.....और यही नहीं पानी के बुलबुलों की तरह मोटे भी होते जा रहे थे.....बचपन में पढ़े गए चाचा चौधरी और बांकेलाल के कॉमिक्स याद आने लगे....सिर पर डंडा पड़ने के बाद आस-पास तारे मंडराने लगते थे और सिर के ऊपर एक लड्डू निकल आता था....चित्र में देखकर मैं खूब खीखीखीखी किया करता था...असलियत आज फोकस हो रही थी....मन में जो गालियां आ रही थीं और जिनके लिए आ रही थीं, बाहर निकल पड़तीं तो शायद आज दिल्ली सांप्रदायिक दंगों की आग में जल रहा होता......खैर, मैंने खुद से ज्यादा अपनी जुबान को सम्हाला और किसीतरह एटीएम से पैसे निकालकर ऑटोवाले को दिया....ऑफिस के वाश बेसिन में अपना हाथ धोते वक्त 'मर्डर' फिल्म का वो सीन याद आ रहा था जिसमें अस्मित पटेल, इमरान हाशमी का खून करने के बाद अपने हाथ धो रहा होता है........

(कुछ ज्यादा ही बड़ा हो गया...नईं!!!!...........कूल रहिए, मुझे पता है कुछ सवाल पेट में गुड़गुड़ाने के बाद ऊपर पहुंचकर कुलबुला रहे हैं आपके यक्क दिमाग में.......!, बस टिप्पियाइए, और प्रेशर कुकर की सीटी की तरह अपना ब्लड प्रेशर भी.......सीईईईईईईई........)

Saturday, October 4, 2008

शेरनी ने ले ली चुम्मी, शुक्र है होंठ बच गए !

हादसा कल का है....बयां अब कर रहा हूं....जहां शेरनी ने चुम्मी ली थी...वहां अब पट्टी बंधी है....कीबोर्ड पर उंगलियां बमुश्किल चल पा रही हैं.....पट्टी आज ही बंधवाई है....कल रुमाल बांधकर घूम रहा था.....ऑफिस में काम भी कर रहा था....................ओफ्फ, दिमाग को ज्यादा मत दौड़ाइए....मैं क्या खबरिया चैनलों की तरह टीआरपी के चक्कर में कल्पनालोक क्रिएट कर रहा हूं....दरअसल आज मेरा ऑफ है....पूरे दिन घूमता रहा....कहीं कहीं किसी किसी काम से...आज ढेर सारे मुद्दे भी हैं मेरे पास लिखने के लिए...वो रिक्शेवाले की सड़क पर बिखरी हुई दाल हो.....कनॉट प्लेस में भीख मांगता हिजड़ा हो....बंद पड़ा सेंट्रल पार्क हो...दिल्ली में पधारीं अमेरिकी विदेश सचिव कोंडोलिज़ा राइस हों या दिन-भर सोते-जागते...हर वक्त जिसका चेहरा मेरी आंखों के सामने आजकल छाया हुआ है वो हो....मुद्दों की भरमार है मेरे पास लेकिन.....कल वाली ही बात करना ज्यादा रुचिकर लग रहा है मुझे.....दरअसल लिक्खाड़ लोगों की सबसे बड़ी परेशानी होती है.....वो कुछ भी पचा नहीं पाते...उगलने के लिए बेताब रहते हैं....मेरा भी वही हाल है.......कल क्या हुआ...कि मैं अपने ऑफिस में, न्यूजरुम में दाखिल हुआ....बाएं हाथ में रुमाल बांधकर.....शीर्षक उसी से जुड़ा है...मैंने भरसक कोशिश की कि मेरा बायां हाथ दिखे...लेकिन भला ऐसा कैसे हो पाता....कंप्यूटर पर बैठकर छुपाने की कोशिश भी की लेकिन...इंसानी आंखें तो वही कोना तलाशती हैं जो छुपाया जा रहा हो.....एक के बाद एक जिसने देखा, सवाल दागा.....सवालों के एक से एक मज़मून...- क्या भई, कहां भिड़ गए...किससे हाथापाई हो गई...अरे मिथिलेश भाई से कौन भिड़ेगा...!!!....क्या हुआ जनाब, कहां गिर गए.....अरे, ये क्या हुआ...चोट लग गई क्या...दवा ली कि नहीं.....मजे की बात ये रही कि...किसी ने भी रुमाल के अंदर झांकने की जुर्रत नहीं की....लेकिन जुर्रत करने वाले और मज़ा लेने वाले भी कम नहीं....अपनी बेबाक-बिंदास छवि के लिए मशहूर एक क्राइम रिपोर्टर ने कहा- ''टशन में बांध रखा है...या....????".....अब तक तो मैं लोगों को सच बताता जा रहा था लेकिन इस जुमले से मुझे प्रेरणा मिली....अंदर का नटखट बच्चे को जैसे तेज भूख लग गई वो अपनी खुराक तलाशने लगा....यहां वहां कुछ भी मिल जाए चुरमुरा, बिस्कुट या तीखा मसालेदार नमकीन, कुछ भी....उसके बाद जिसने पूछा, जवाब यही मिला...''कुछ नहीं यार, ऐसे ही टशन में...!'' .....उधर एक प्रोमो प्रोड्यूसर ने छेड़ा- अरे मियां, किस बिल्ली से कटवा के रहे हो.....मैंने कहा- अबे, बिल्ली नहीं, शेरनी ने चुम्मी ले ली, शुक्र है होंठ सही-सलामत है....!

(अगर आप ये समझ रहे हों कि मैंने अपने हाथ पर फर्जी तरीके से, केवल टशन मारने के लिए बांध रखा था तो आपको बता दूं ऐसा बिल्कुल नहीं है...अभी मेरे हाथ पे पट्टी बंधी है....दाहिना पैर पूरा सूजा हुआ है....कल छुट्टी भी नहीं मिल रही....पोस्ट लिखने के दौरान ही फोन आ चुका है...कल ऑफिस रोजाना के टाइम से दो घंटे पहले पहुंचना है....तो कल ऑफिस पहुंचूंगा.........बाएं हाथ में पट्टी और सूजा हुआ पैर लेकर...ये हादसा कैसे हुआ वो फिर कभी क्योंकि वो सब बयान करने से हास्य रस नहीं, रौद्र रस की निष्पति होगी.....तो एक बार में एक ही रस ....का पान करें तो अच्छा....है ना !)

यही है बापू को नमन !

(यह लेख मेरे मेल पर अक्टूबर को १२:२३ बजे ही आ गया था लेकिन प्रकाशित काफी लेट कर पा रहा हूं...इसके लिए माफी चाहूंगा...आपको बता दूं लेखक श्री विभूति नारायण चतुर्वेदी फिलहाल पीटीआई -भाषा में वरिष्ठ पत्रकार हैं...)

मोहनदास करमचंद गांधी और कस्तूरबा के खून से पैदा हुई संतति की संख्या बढ़कर सौ के पार हो चुकी है लेकिन इस खानदान की मौजूदा पीढ़ी को अब तक एक भी ऐसा मौका मयस्सर नहीं हो सका है कि वे एक साथ जुट सके। तारा से लेकर तुषार तक परिवार के सदस्यों को इसका मलाल भी है।

महात्मा गांधी के दूसरे पुत्र मणिलाल गांधी के पौत्र तुषार गांधी ने इस बारे में पूछे जाने पर कहा कि यह नहीं हो पाया है। परिवार इतना फैल चुका है कि उसे एक साथ कर पाना मुश्किल हो गया है। उन्होंने बताया कि बापू और बा के चार पुत्रों हरिलाल, मणिलाल, रामदास और देवदास के पुत्र-पुत्रियों का वंश अब सौ से ऊपर हो चुका है और इस खानदान के कुल 130 सदस्य हिन्दुस्तान के अलावा दक्षिण अफ्रीका, अमेरिका, कनाडा इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया आदि देशों में रह रहे हैं। इसी संदर्भ में गांधी के तीसरे पुत्र देवदास गांधी की ज्येष्ठ पुत्री तारा भट्टाचार्य ने कहा कि हमारी मर्जी तो बहुत है कि हमें मिलना चाहिए लेकिन हम सब अपने-अपने क्षेत्रों में लगे हैं। इस बारे में सोच भी है कि सभी इकट्ठा हों लेकिन हो नहीं पाया है।

कस्तूरबा गांधी राष्ट्रीय स्मारक न्यास की उपाध्यक्ष तारा ने बताया कि इस बारे में कोशिश की जा रही है और उन्हें उम्मीद है कि साल के अंत में ऐसा कोई समागम हो पाएगा। उन्होंने कहा कि विदेश में रहने वालों को जुटा पाना संभव नहीं हो पा रहा है लेकिन भारत में रहने वाले लोग समय समय पर मिलते रहते हैं और हमलोग खुश होते हैं।

करमचंद गांधी और पुतली बाई के सबसे छोटे पुत्र मोहन दास का विवाह मात्र 13 साल की उम्र में कस्तूरबा से हो गया था और उनके चार पुत्र हुए और उसके बाद यह खानदान लगातार बढ़ा है। महात्मा ने हालांकि भारतीय आजादी की लड़ाई की कमान संभालने से पहले 1914 में ही परिवार का परित्याग कर दिया था और सभी भारतीयों को अपना मानस पुत्र मान लिया था लेकिन गांधी के सबसे बड़े पुत्र हरिलाल की चार संतानें हुई और उनकी सबसे बड़ी पुत्री नीलम पारिख पिछले साल मुंबई में गांधी के अस्थि कलश विसर्जन में शामिल हुई।

महात्मा के सबसे बड़े पुत्र से मेल न खाने की बात सभी लोगों को पता है और उन्होंने खुद लिखा भी है कि मेरे जीवन के दो सबसे बड़े खेद- दो लोगों को मैं कभी रजामंद नहीं कर सका- मेरे मुस्लिम दोस्त मोहम्मद अली जिन्ना और मेरे अपने पुत्र हरिलाल गांधी।

नीलम ने अपने पिता पर एक पुस्तक भी लिखी है- महात्मा गांधीज लास्ट ट्रेजर-हरिलाल गांधी जिसमें इस बात पर कुछ रोशनी डाली गई है। गांधी के दूसरे पुत्र मणिलाल गांधी के एक पुत्र अरुण गांधी और दो पुत्रियां सीता और इला हुई। अरुण हाल के दिनों में विवादों में भी घिर गए थे जब उन्होंने वाशिंगटन पोस्ट वेबसाइट पर एक आलेख प्रकाशित किया जिसमें उन्होंने यहूदियों और इजरायल के बारे में कुछ टिप्पणी की। इस विवाद के बाद उन्हें अमेरिका के रोचेस्टर विश्वविद्यालय में उनके द्वारा स्थापित महात्मा गांधी शांति पीठ से इस्तीफा देना पड़ा।

अरुण गांधी के ही पुत्र तुषार गांधी हैं जो फिलहाल कांग्रेस पार्टी के सदस्य हैं और पेशे से बैंकर हैं। वह सामाजिक और राजनीतिक कार्यो में लगे हैं। महात्मा के तीसरे पुत्र रामदास की पुत्री सुमित्रा गांधी कुलकर्णी राज्यसभा [1972 से 1976] की सदस्य रहीं और आपातकाल के मुद्दे पर इंदिरा गांधी से उनका मतभेद हुआ। उन्होंने गांधी पर एक पुस्तक अनमोल विरासत लिखी और देश के राष्ट्रपति पद के चुनाव में उतर कर सर्वोच्च संवैधानिक पद तक पहुंचने का प्रयास भी किया। गांधी के सबसे छोटे पुत्र देवदास गांधी खुद हिन्दुस्तान टाइम्स के संपादक रहे और उन्हें कभी-कभार बापू के निजी सहायक के तौर पर साबरमति आश्रम में काम करने का भी मौका मिला। देवदास के एक पुत्र गोपाल कृष्ण गांधी मौजूदा समय में पश्चिम बंगाल के राज्यपाल हैं और उन्होंने पूर्व में भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी के तौर पर विभिन्न देशों में भारतीय मिशनों में काम किया जिसमें श्रीलंका भी शामिल है जहां से उन्होंने अवकाश ग्रहण किया।

देवदास गांधी के एक अन्य पुत्र राजमोहन गांधी भी राज्यसभा के दो साल तक सदस्य रहे और उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के खिलाफ लोकसभा का चुनाव लड़ा। राजमोहन ने कई पुस्तकें भी लिखी हैं। उनके सबसे छोटे भाई रामचंद्र गांधी पिछले साल जून में इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में मृत पाए गए थे जो पेशे से दर्शनशास्त्र के प्रोफेसर थे और फक्कड़ी उनके मिजाज में थी। गांधी खानदान की अब पांचवीं छठीं पीढ़ी पैदा हो चुकी है और महात्मा गांधी हिज अपोस्टल्स पुस्तक के लेखक वेद प्रकाश मेहता के अनुसार गांधी खानदान के लोग कई देशों में जीवन बीमा बेचने से लेकर अंतरिक्ष इंजीनियरिंग तक के क्षेत्र में सक्रिय हैं। पोरबंदर से लोकसभा का चुनाव लड़ने की इच्छा रखने वाले तुषार ने गांधी रक्त वंशजों के राजनीति में सफल नहीं होने के बारे में पूछे जाने पर कहा कि मैं समझता हूं कि शायद हमारी काबलियत में वह नहीं है जो आज राजनीति में सफल होने के लिए चाहिए। बापू ने अपने जीवनकाल में परिवार को कभी आगे नहीं बढ़ाया और इसका सम्मान उस समय परिवार ने भी किया और राजनीति तथा सार्वजनिक जीवन से दूर रहा। उन्होंने कहा कि मेरे चाचा [राजमोहन], बुआ [सुमित्रा] और मैंने कोशिश की। हमारे में वह काबलियत नहीं है जो जरूरी होती है। जो निपुणता चाहिए वह शायद नहीं है। तुषार ने कहा कि उन्होंने 1998 में लोकसभा पहुंचने की कोशिश की लेकिन कामयाब नहीं हो सके। तुषार पहले समाजवादी पार्टी के सदस्य थे। उन्होंने बताया कि उनकी एक बुआ इला गांधी दक्षिण अफ्रीका में वहां की संसद की सदस्य रहीं। मणिलाल गांधी की पुत्री इला 1994 से 2004 तक दक्षिण अफ्रीकी संसद की सदस्य रहीं और वह गांधीवाद के प्रचार प्रसार में सक्रिय हैं।

महात्मा गांधी के परिवार के भारतीय राजनीति में सफल नहीं रहने के बारे में गांधी शांति प्रतिष्ठान के सचिव सुरेन्द्र कुमार ने कहा कि जिस तरह का संरक्षण अपने बच्चों को देकर अन्य राजनेता उन्हें आगे बढ़ाते हैं गांधीजी ने वह संरक्षण नहीं दिया। वे मानते थे जिनमें क्षमता है वे खुद आगे बढ़ें। यह पूछे जाने पर कि समाज को क्या गांधी परिवार से राजनीतिक उम्मीद करनी चाहिए उन्होंने कहा समाज को किसी परिवार से नहीं बल्कि चिंतन से उम्मीद रखनी चाहिए। यह गांधीवादी चिंतन ही है जो गोपालकृष्ण गांधी [पश्चिम बंगाल के राज्यपाल] को अग्रिम पंक्ति में खड़ा करता है।

Thursday, October 2, 2008

मीडिया में बिहारी दबंगई, मामला क्या है?

मुझे लगता है कि ये कहना है कि बिहारी सिर्फ क्षेत्रवाद के बदौलत मीडिया में अपना दबदबा कायम किए हुए हैं पूरी तरह उचित नहीं है, हो सकता है इसमें आंशिक सच्चाई हो।बिहारियों का हेडकाउंट देखकर ये अंदाजा बरबस ही लगाया जा सकता है,जैसे धमाकों में मुसलमानों को देखकर लगता है कि सारे ही जिम्मेवार हैं। लेकिन ऐसा है नहीं कि सारे बिहारी पैरवी से ही आए हैं। दूसरी बात रही मीडिया की तो ये बात सर्वविदित है कि यहां नौकरी नेटवर्किंग से मिलती है, सीवी के बल तो कोई पानी भी नहीं पीने को बुलाता। तो ऐसे में थोड़ा बहुता पैरवी चलना लाजिमी है, और ऐसा सब करते हैं।रही बात मीडिया में ऊंचे पदों पर बैठे बिहारियों की तो मेरी नजर में टैम के लिस्ट में जो 12 चैनल आते हैं उनमें ऊपर से तीन यानी आजतक, इंडिया टीवी और स्टार तीनों के ही हेड गैर-बिहारी है। इसके आलावा सहारा, आईबीएन-7 के भी हेड गैर-बिहारी हैं। हां, नीचे वालों में बिहारी खासे हैं और मेरे ख्याल से आधे से ज्यादा हैं लेकिन क्या इसका खालिस मतलब उनका योग्यता विहीन होकर सिर्फ पैरवी पुत्र होना हैं?

नहीं कहानी कुछ और भी है। और इसे समझने के लिए बिहारियों की मानसिकता और उनकी समाजिक-आर्थिक विकास को समझना जरुरी है।ये कहने की जरुरत नहीं कि विकास के पैमाने पर बिहार का स्थान नीचे सें नंबर-1 हैं और ऐसे माहौल में जातिवादी माहौल भी खूब पनपता है। बिहार में संसाधनों का जितना असमान वितरण है, यानी जमीन का एक बड़ा हिस्सा कुछ खास लोगों के हाथों में(हाल तक यहीं था, कमोवेश अभी भी) में है-उसने लोगों की मानसिकता सामंतवादी बना दी है। यही वजह है कि एक औसत बिहारी अपने सामंती अहं की तुष्टि आईएएस जैसी नौकरी में खोजना चाहता है।बिहार के सामंतवादी-जातिवादी शासन-समाज ने पिछले पचास साल में जो अ-विकास का मॉडल गढ़ा है उसमें रोजगार के नाम पर घटिया किस्म की खेती है या नहीं तो भारत और बिहार सरकार की नौकरी है। और बढ़ती आबादी और शिक्षा ने एक पूरे के पूरे वर्ग को बिहार से बाहर धकेल दिया है जो सम्मानजनक काम भी करना चाहता है। वो सरकारी नौकरियों में भर गया है, वो देश के हरसंभव नौकरियों में है जहां अंग्रेजी जरुरी नहीं है।

साफ है बिहार का एक औसत शिक्षित युवा सामान्य ज्ञान और करेंट अफेयर्स में काफी मजबूत हो जाता है-ऐसा पैदाईशी नहीं होता,ऐसा वहां के माहौल ने बना दिया है। जिस समाज में सम्मान पाने का तरीका सिर्फ एक अच्छी नौकरी करना हो, जहां व्यापार करने की न तो परंपरा हो न ही माहौल, वहां ऐसा होना लाजिमी है। और फिर जब आईएएस बनने का ख्वाब दरकता है, तो वह मीडिया हॉउसों के ग्लास हाउसों में जाकर पूरा होता है क्योंकि लगता है इतनी पढ़ाई की उपयोगिता वहीं है..जो बाद में जाकर बड़ा छलावा साबित होता है।

और ये तमाम परिस्थितियां दूसरे हिंदी भाषी सूबों में नहीं है, यूपी में भी नहीं।आप प्रतिव्यक्ति आय को देखिए, जमीन की उपलब्धता को देखिए या फिर औद्यौगीकरण को देखिए-यूपी बिहार से आगे है। हां, यूपी की विशालता और विविधता भी इतनी है कि पश्चिमी यूपी वाले को पूर्वी यूपी वाले से कोई लगाव नहीं रहता-बल्कि वो तो उसे हिकारत से देखता है। वो सांस्कृतिक रुप से पंजाबी या हरियाणवी है और संपन्न भी है।

एक बात और जो अहम है वो ये कि हाल के दशकों में बिहारियों में थोड़ी बहुत एक बिहारी उपराष्ट्रीयतावाद जरुर पनपी है, संभवत ऐसा 60 या 70 के दशक में तमिल या बंगालियों के साथ था जो हिंदी वर्चस्व के भय के साये में जीते थे।दरअसल बात ये है कि जो भी कौम भय के साये में जीती है उसके साथ ऐसा ही होता है। बिहार के पिछड़ापन और इसकी वजह से दूसरे सूबों के लोगों का हिकारत भाव इतना गहरा है कि बिहारियों ने आहिस्ते-आहिस्ते क्षेत्रीयतावाद का रास्ता अपनाना शुरु किया है। वे खोल में समाते जा रहे हैं-शायद कुछ बंगालियों की तरह जो ट्रेन में किसी दूसरे बंगाली को देखकर सट जाता है।

और यहीं बिहारी कॉकस या बिहारी क्षेत्रीयतावाद मीडिया ही नहीं हर जगह दिख रही है। तो क्या ये सिर्फ अयोग्यों का जमाबड़ा है? नहीं, लोगों की सप्लाई इतनी है कि अयोग्यता का सवाल बेमानी हो जाता है। अलवत्ता, बिहारियों जैसा दिलदार कौम आपको शायद ही खोजने पर मिले। बिहारियों ने दिलखोल कर बाहर के लोगों को संसद में पहुंचाया है-चाहे वो जॉर्ज हों या फिर शरद यादव या फिर मधु लिमिये हो। तो फिर आप अंदाज लगा लीजिए की..ये सिर्फ क्षेत्रीयतावाद है या कुछ और। शायद ये दोनों है,या शायद कुछ भी नहीं।

मजबूरी का नाम महात्मा गांधी क्यों ?

आज 2 अक्टूबर है..महात्मा गांधी का जन्म-दिन...बैरिस्टर मोहनदास करमचंद गांधी का जन्म-दिन के राष्ट्रपिता का जन्म-दिन...बापू का जन्म दिन...बापू को शत्-शत् नमन ! साथ ही लाल बहादुर शास्त्री को नमन...आज एक बार फिर एक ही सवाल परेशान कर रहा है...इस महापुरुष ने भारत के लिए, दुनिया के लिए..इंसानियत के लिए इतना कुछ किया...और सत्य और अहिंसा के मज़बूत हथियार के सहारे बड़े-से-बड़े धुरंधरों को घुटने टेकने पर मज़बूर कर दिया..ऐसी महान शख्सियत के नाम के साथ ये जुमला पता नहीं कब, कहां, कैसे जुड़ गया...लोग अक्सर अपनी मजबूरी के पलों में कहते हैं- "छोड़ यार, कुछ नहीं हो सकता...मज़बूरी का नाम महात्मा गांधी"..हंसी भी आती है और मन उदास भी होता है...जिस महान शख्सियत को हम अपना राष्ट्रपिता मानते हैं, बापू कहते हैं, ...सम्मान करते हैं, उन्हीं को मजबूरी का पर्याय बताना कितना गलत है !क्या वजह है जो महात्मा गांधी के साथ एक बेतुका जुमला जुड़ा हुआ है<'मजबूरी का नाम महात्मा गांधी'...इस जुमले पर इलाहाबाद के मेरे कुछ परिचितों ने अपनी राय कुछ यूं रखी-

डॉ राजेंद्र कुमार, साहित्यकार एवं पूर्व विभागाध्यक्ष, हिन्दी विभाग, इलाहाबाद विश्वविद्यालय
''ये मुहावरा गांधीजी का अवमूल्यन करने वाला प्रतीत होता है। गांधीजी ने कभी भी अहिंसा को तो कायरता कापर्याय माना मजबूरी का। चूंकि गांधी के आदर्श को व्यवहारिकता के तौर पर नहीं समझा सका। इसलिए जिनलोगों ने वास्तविक रूप में गांधीजी की राह पर चलना चाहा उनको मजबूरी से जोड़कर लोगों ने अपनी समर्थता को छिपा लिया।''

डॉ जेएस माथुर, निदेशक, गांधी अध्ययन संस्थान, इलाहाबाद
'''ये प्रश्न बिल्कुल बेतुका है। लोग किसी भी उल्टी-सीधी बात को स्लोगन बना लेते हैं, उस पर हमें माथा-पच्ची नहींकरनी चाहिए कि कैसे बना क्यों बना। गांधीजी दृढ़ इच्छाशक्ति और सबल नेतृत्व के स्वामी थे, लोग उनसे बहुतकुछ सीख सकते हैं।''

डॉ एचएस उपाध्याय, अध्यक्ष, दर्शनशास्र विभाग, इलाहाबाद विश्वविद्यालय
''गांधीजी हिंसा के सहारे इतने बड़े शक्तिशाली ब्रिटिश साम्राज्य से नहीं लड़ सकते थे। इसीलिए मजबूरी में अहिंसाका सहारा लेना पड़ा। शायद तभी लोग ऐसा कहते हैं।''

डॉ राजाराम यादव, प्राध्यापक भौतिकशास्त्र, इलाहाबाद विश्वविद्यालय
''गांधीजी देश का बंटवारा नहीं चाहते थे, पर मजबूरी में उन्हें यह स्वीकार करना पड़ा। शायद इसीलिए मजबूरी कानाम महात्मा गांधी पड़ गया।''

डॉ आईआर सिद्दिकी,प्राध्यापक रसायनशास्त्र, इलाहाबाद विश्वविद्यालय
''उस समय जनता तत्कालीन सरकार पर आर्थिक या राजनैतिक रूप से दबाव डालने में असमर्थ थी। गांधीजीमजबूर होकर खुद को तकलीफ देना उचित समझते थे। उनकी कार्यप्रणाली यही थी कि अधिक से अधिक कष्टसहकर विरोध प्रदर्शित किया जाए।''

डॉ अनीता गोपेश, साहित्यकार एवं प्राध्यापक जन्तु विज्ञान, इलाहाबाद विश्वविद्यालय
''गांधीजी राष्ट्र का विभाजन नहीं चाहते थे फिर भी विभाजन हुआ और वे मजबूर हो अपना शोक प्रकट करते रहे।उनकी इस मजबूरी को ही उनका अवमूल्यन करते हुए लोगों ने उनके नाम के साथ जोड़ दिया, यह सर्वथा अनुचितहै।''

डॉ अविनाश त्रिपाठी, व्याख्याता वनस्पति विज्ञान, इलाहाबाद
'' गांधीजी के संबंध में तीन बातें विचारणीय हैं-
वे बहुत कृषकाय शरीर के थे।
उन्होंने प्राय: मजबूरन ही अंग्रेजों से समझौते किये
भारत के विभाजन के मुद्दे पर जिन्ना के हठ के आगे वे मजबूर हो गये।
दूसरे किसी भी शख्स ने कभी मजबूर होकर समझौते नहीं किये, इसीलिए मजबूरी का नाम महात्मा गांधी कहाजाता है...''

ब्लॉगवाणी के जरिए इन लोगों के विचार मिेले-
सुरेश चंद्र गुप्त
''मेरे विचार में यह कहावत नेहरू की देन है। नेहरू ने गांधी को कभी अपना आदर्श नहीं माना, वह केवल अपनी स्वार्थसिद्धि के लिए गाँधी से जुड़े थे। आज़ादी के बाद नेहरू को गांधी की जिद पर कई ऐसे फैसले करने परे जो उन्हें पसंद नहीं थे. नेहरू के लिए गांधी एक मजबूरी का नाम थे.''

सुरेश चिपलूणकर
''राष्ट्रपिता भी उन्हें "मजबूरी" में ही बनाया गया (माना गया) शायद इसीलिये… क्योंकि तिलक, भगतसिंह, बोस के होते हुए कुर्सी और चमचागिरी की मजबूरी में नेहरु ने उन्हें राष्ट्रपिता घोषित किया.''

(.....इस कड़ी को आप आगे बढ़ा सकते हैं....लिखिए आप क्या सोचते हैं इस मुद्दे पर, क्यों अक्सर लोग कहते हैं 'मजबूरी का नाम महात्मा गांधी !' अपने विचार आप यहां टिप्पणी के रूप में दर्ज कर दें या मुझे मेल कर दें। )

वो खबर बनाती थी, अब खबर बन गई !

सौम्या विश्वनाथन। कुल उम्र 26 साल। पत्रकारिता का करियर 5 साल से कुछ ज्यादा। यूं तो मैं सौम्या को उसके जिंदा रहते जानता भी न था। फिर भी हमारे बीच एक रिश्ता था। पहला तो ये कि हम दोनों ही आईआईएमसी पास आउट थे। दूसरा ये कि वो भी मेरे ही बैच की थी। हम एक दूसरे से परिचित नहीं थे। वो इसलिए कि मैंने दिल्ली में कोर्स किया। उसने ढ़ेंकनाल से किया। कमोबेश एक ही तरह के करियर से गुजरते हुए। वो एक अंग्रेजी चैनल में प्रोड्यूसर थी। मैं एक हिंदी चैनल में प्रोड्यूसर हूं। वो भी खबर बनाती थी। मैं भी खबर बनाता हूं। कहा जा रहा है। एक खबर के चक्कर में ही उसे ऑफिस में लेट हो गया। और उस रात के बाद का सवेरा वो कभी नहीं देख पाई। मालूम नहीं..उसके साथ क्या हुआ। मालूम नहीं किसने उसे मौत के घाट उतारा। मालूम नहीं आगे क्या होगा। मगर इतना जरुर महसूस कर पा रहा हूं..कि खबरों के साथ खेलते खेलते हर खबर खिलौना सी लगने लगी है। मेरी एक बैचमैट बेरहमी से मौत के घाट उतार दी जाती है...और मैं उसकी खबर बनातेवक्त ये सोच रहा हूं..उसकी मौत को शानदार ढ़ंग से बयां करने के लिए कैसी भाषा..कैसे शब्दों का इस्तेमाल करुं..। सचमुच हर रोज मौत का तमाशा बनाते बनाते हमारे जज्बातों का तमाशा बन गया है..औऱ हम बेबस हैं...कायदे से हम अपनी उस दोस्त के लिए दुखी भी नहीं हो सकते...जो खबर बनाते बनाते खुद खबर बन गई है।

ये तो हुई मेरी कहानी। कुछ लोग ऐसे भी हैं..जिन्होंने सौम्या के साथ वक्त बिताया है.. सौम्या का जाना उनकी जिंदगी में कैसा खालीपन लेकर आया है...वो आप यहां पढ़ सकते हैं-
वो बार बार आती रही मेरे ख्यालों में

Tuesday, September 30, 2008

क्या मीडिया में बिहारवाद चलता है ?

इंडिया न्यूज में बतौर प्रोड्यूसर काम कर रहे सचिन अग्रवाल काफी परेशान हैं। उनकी बेचैनी और परेशानी इस लेख में साफ झलकती है। शायद ऑफिस में प्रतिक्रिया जताने का मौका उन्हें नहीं मिल पाया। लिहाजा वो अपनी बात यहां रख रहे हैं। सचिन अग्रवाल ईटीवी, टोटल टीवी, एस 1 और आजाद न्यूज जैसे जमे जमाए चैनलों में काम कर चुके हैं। अपनी बात बेहद बेबाकी से रखते हैं। जो कुछ वो कह रहे हैं, उससे सहमति असहमति अलग मुद्दा है...पर उनसे सहानुभूति जरुर है।- मॉडरेटर

क्या बिहारी बॉस बिहारी लोगों को सपोर्ट करते हैं......कहा तो ये ही जाता है कि हां करते हैं....मैं भुक्तभोगी हूं भी और नहीं भी....कभी लगता है कि ये होता है कभी लगता नहीं ...आखिर बॉस को भी तो नौकरी करनी है ...मालिक को दे या ना दे बाजार को तो जवाब देना ही पड़ेगा.... अगर वाद चलाएगा तो खुद बर्बाद हो जाएगा...अब वो फिदाईन तो हैं नहीं कि किसी वाद के लिए अपनी जान देदे .....मैं जहां का रहने वाला हूं वहां के लोगों की मदद इस हद तक तो नहीं करूंगा कि मेर ऊपर इल्जाम लगने लगें मुझे जगह जगह जाकर जवाब देना पड़े....मेरा अखिल भारतीय होने की छवि को क्षेत्रीय बना दिया जाए....बॉस भी तो इन चीजों से जूझता होगा....लेकिन फिर भी मन नहीं मानता ...मन में ये हर वक्त चलता रहता है कि बिहार के लोग बिहारियों को सपोर्ट करते हैं...ऐसा न होता तो आज हर जगह हर बड़ी कुर्सी पर यही लोग क्यों बैठे हैं.....कुछ तो है....क्या बिहार से ज्यादातर लोग पलायन करते हैं इसलिए मीडिया में भी ज्यादातर बिहारी है ...क्या बिहार के लोग पढ़ने लिखने वाले ज्यादा होते हैं...एक कारण ये भी है कि बिहार के लोग यूपीएससी के ग्लैमर में जब बिखर जाते हैं और नेता बनने के उनके पास चांस नहीं रह जाते तो ताकत की खोज उन्हे मीडिया में ले आती हो ...हो सकता है .....क्या बिहार के लोग अपने लोगों की मदद करते हैं....अगर करते हैं तो कोई बुराई नहीं...लेकिन मेरा नुकसान करके अगर उनकी मदद करेंगे तो बुराई है ...क्योंकि मैं शायद उनकी जगह होऊं तो ऐसा नहीं करूंगा...तो क्या बॉस अपनी कुर्सी को मजबूत करने के लिए अपने वफादार लोगों को भरने के चक्कर में बिहारवाद में पड़ जाता है....कुर्सी पर जो भी बैठेगा उसे काम करके तो देना होगा वरना नमस्कार होने में टाइम नहीं लगेगा...लेकिन कुर्सी पर बैठने के बाद उसके चारो पाए मजबूत भी करने पड़ते हैं...तो क्या पाए मजबूत करने के चक्कर में अधिकारी काबिलियत की बजाय़ इलाके को तरजीह देने लगते हैं.....मेरा ये मतलब नहीं कि बिहार के लोग प्रतिभाशाली नहीं होते ...हां मेरा मतलब ये जरूर है कि बिहार का हर पत्रकार मुझसे ज्यादा प्रतिभाशली नहीं....मैं जानता हूं मीडिया के कुछ लोगों को जिनके बारे में सुना है कि वो सिर्फ बिहार के लोगों को ही नौकरी देते हैं...उनके साथ काम करने को नहीं मिला....मिल भी गया तो राज ठाकरे तो मैं नहीं बन पाऊंगा.....लेकिन सच जानने ललक जरूर है ...आप लोग मेरी मदद करें......बताइए मैं दिल की सुनूं या दिमाग की ...या कहीं ऐसा है कि दोनो ही एक ही बात बोल रहे हों और मुझे अलग अलग लग रही हों.....दिल कहता है कि मान लो मीडिया ...प्लीज मेरी मदद करें.....

Sunday, September 28, 2008

अविनाश जी...महरौली में बम मैंने फोड़ा, शुक्र है आपका मोहल्ला बच गया !

स्थान- दिल्ली के ओखला इलाके में एक न्यूज चैनल का आफिस
समय- 3.40 मिनट
हालात- आफिस पहुंचने से कुछ वक्त पहले ही मुझे एफएम के जरिए मालूम हो चला था कि महरौली में बम फट गया है।
आफिस पहुंचकर जैसे ही मैंने अपना जीमेल अकाउंट खोला.. उसमें 3.15 मिनट का एक ईमेल नजर आया।
ये ईमेल मोहल्ला के मॉडरेटर और वर्तमान में दैनिक भाष्कर में सेवाएं दे रहे अविनाश दास जी का था। यूं तो ये
ईमेल बस डेढ़ लाइन का था...मगर इन डेढ़ लाइनों में जो कुछ लिखा गया था। उससे अंदाजा लगाना मुश्किल था
कि अविनाश जी ने क्या सोचकर ये ईमेल मुझे भेजा था। ईमेल में बस इतना ही लिखा गया था "सारे आतंकवादी
तो पकड़े या मार डाले गये थे, फिर महरौली में किसने बम फोड़ा?"

जामिया नगर में हुए मुठभेड़ को लेकर लिखे गए एक लेख के जवाब में मैंने एक लेख लिखा था। बहुत से लोगों ने पढ़ा.. जिसे जो समझ में आया.. टिप्पणी दे गए। मगर मोहल्ले वाले अविनाश जी ने मान लिया..कि मैं तो फर्जी मुठभेड़ों का समर्थक हूं। चूंकि मेरे लेख में मुठभेड़ को फर्जी ठहराए जाने के तार्किक विश्लेषण पर कुछ सहज जिज्ञासाएं जाहिर की गई थीं..। और शायद.. ये जिज्ञासाएं अविनाश जी को नागवार गुजरीं.. और इसके मायने उन्होंने कुछ इस तरह निकाले मानो मुझे पुलिसिया मुठभेड़ में एक्शन फिल्मों का पुट नजर आता हो..या फिर मैं वामपंथियों को छोड़कर बाकी बचे सांप्रदायिक हिंदुओं का प्रवीण तोगड़िया टाइप कोई नेता हूं...जिसे मुसलमानों की बढ़ती आबादी से खतरा नजर आता हो। अजीब बात है...जो वामपंथी नहीं है.. उसे पक्के तौर पर आरएसएस का कार्यकर्ता मान लिया जाता है। जो दक्षिणपंथी नहीं है..उस पर लेफ्टिस्ट होने का तमगा चिपका दिया जाता है। अफसोस तब होता है..जब ये काम वो लोग करते हैं..जिन्हें समाज में इसी बात का सम्मान मिला है..कि वो बाकियों की तरह भेड़चाल में नहीं चलते..। जिनसे ये उम्मीद पाली जाती है कि वो अपने दिमाग की खिड़कियां और दरवाजे खोलकर रहते हैं। मैं ये सब कुछ इसलिए नहीं लिख रहा कि..इसे एक मुद्दा बनाकर वैचारिक जुगाली का एक और नायाब मौका खोजा जाए...। ये एक सहज प्रतिक्रिया है....उस पूर्वाग्रह के प्रति जो अविनाश जी ने मेरे बारे में ना केवल बनाई बल्कि जाहिर भी की। खैर..अविनाश जी! मैं ये तो नहीं जानता..सचमुच महरौली में बम किसने फोड़ा..लेकिन अगर सचमुच आपको लगता है कि आतंकवाद के नाम पर होने वाले एनकाउंटर पर सवाल नहीं उठाकर मैंने इंसानियत को शर्मसार कर दिया है तो चलिए मैं ही ये गुनाह कबूल कर लेता हूं...। हां..मैंने ही फोड़ा है महरौली में बम.. क्योंकि आपके मुताबिक.. सारे आतंकवादी या तो पकड़े या मार दिए गए थे...। शायद आपने ये ईमेल तो मुझे ये मानकर लिखा है कि मैं दिल्ली पुलिस का प्रवक्ता हूं.. या फिर इंडियन मुजाहिद्दीन का सरगना...। जो कुछ मानना हो मान लीजिए...मगर प्लीज..पूर्वाग्रह का चश्मा उतार दीजिए... क्योंकि लेफ्ट में जो एक बात बहुत जोर देकर कही जाती है कि "तय करो कि किस ओर हो..इस ओर या..." इससे बेहूदा सूक्ति कुछ भी नहीं हो सकती। विचारधाराओं के बौद्धिक मकड़जाल में आम आदमी के भीतर की सहजता और इंसानियत को खत्म करने की ये साजिश खत्म होनी चाहिए...। मैं जानता हूं...आपको ये बातें अच्छी नहीं लग रही होंगी.. मगर क्या आप मुझे एक वैलि़ड रीजन बता सकते हैं...आपने मुझसे क्यों पूछा.."सारे आतंकवादी तो पकड़े या मार डाले गये थे, फिर महरौली में किसने बम फोड़ा?" जब मीडिया में काम करने वाला हर शख्स खबर चलाने, बनाने या जानकारी हासिल करने में लगा हुआ था..ठीक उस वक्त.. वो भी धमाके के महज घंटे भर के भीतर आपको यही बात क्यों ध्यान में आई...कि आपको मुझे मेल करना है ? अगर आप इस पर अपना पक्ष रखना चाहें तो..अच्छा है...लेकिन विषय को कहीं और मत ले जाइएगा। वैसे भी.. इस्लामिक आतंकवाद...गोधरा नरसंहार कांड...बाबरी मस्जिद कांड...फलीस्तीन-इस्राइल विवाद...सोहराबुद्दीन केस.. जाहिरा शेख, नाथूराम गोडसे.. के बारे में मुझे ज्यादा जानकारी नहीं है.. और ना ही मुझे पोलिश..रशियन..या फिर बांग्ला लिटरेचर पढ़ने का ही मौका मिला। उम्मीद करता हूं..आप मेरी बातों को अन्यथा नहीं लेंगे। क्योंकि ये सिर्फ आपका पूर्वाग्रह दूर करने की कोशिश भर है। बाकी.. आपसे शास्त्रार्थ करने की हिम्मत मैं जुटा भी नहीं सकता।

Tuesday, September 23, 2008

क्या बीमारी है ये भड़ास डॉट कॉम

क्या बीमारी है भइया ये ...ये किसी दिन मेरे खिलाफ न छाप दे...अब तो बड़ा आदमी बनने से डर लगता है ...किसी दिन मेरी हकीकत न छाप दे....ये भी नहीं पता कि जो छपेगा वो सच ही होगा...इतना जरूर है जो छपा होगा उसमें चटखारे लेने की पूरी गुंजाइश होगी...हर चैनल ... हर पत्रकार की खबर ले रहा है ...लेकिन इसका अंदाज मुझे पसंद नहीं....कम से कम पत्रकारों के लिए छपने वाली खबरें तो ऐसी हों जो चौसठिय़ा के अंदाज में न हों...हम सब पढ़े लिखे हैं और इससे ज्यादा दिक्कत इस बात की है कि अपने को पढ़ा लिखा मानते हैं...यशवन्त जी कृपया इतनी इज्जत न उतारें लोगों की ....निजी टिप्पणियों से बचें....संस्थान चलाने के लिए बहुत सी चीजें होती हैं...इस ब्लॉग को हर किसी का अपना फ्रस्टेशन निकालने का पखाना न बनाए....आप अच्छा काम कर रहें लेकिन प्लीज उसे अच्छी तरह से करें...पत्रकारिता में मौजूद मेरे जैसे दलित विचारकों की कुंठाओं को आवाज दें लेकिन मेरी शब्दावली को अपने संपादकीय शब्द तो दें...जो मैं बोलता हू प्लीज वैसे ही मत छाप दिया करें....मैं तो जाने अफसरों के लिए क्या क्या बोलता हूं...कई बार तो वो आलाकमान के परिवार की महिला सद्स्यों के बारे में मेरी कल्पनाशीलता का यौनातिरेक होता है .....तो क्या वो भी आप छाप देंगे....या अभी वो समय आने वाला है ......आया नहीं है .....इसे निजता की ओर न ले जाएं....किसी की इज्जत न लूटें....इज्जत लूटना बुरी बात है ......धन्यवाद

क्या मै महफूज हूँ ???? .......

बम ब्लास्ट की ख़बर को तवज्जो देना हम पत्रकारों का फर्ज होता है .....लेकिन जब आम आदमी की सोचते है तो लगता है की अभी बहुत कुछ बाकी है..कही कोशी तो कही सिंगुर या कुछ और ??? .....पहले तो नही लेकिन अब जब भी घर से निकालता हूँ ...तो मन में एक अनजाना सा डर बना रहता है की कही ब्लास्ट न हो जाए ...बस में मेट्रो में या फ़िर कही भी हर उस शक्श को संदेह की नजरो से देखता हूँ जिसके हाथ में कोई बैग होता है ...... लगातार हो रही आतंकवादी गतिविधियों से हर आदमी अपने आप को डरा हुआ महसूस कर रहा है......लेकिन लोगो कि दिनचर्या वैसे ही चल रही है जैसे पहले चल रही थी ...क्योंकि हम भारतीय है ,,,हमें कोई डिगा नही सकता .......लेकिन आम आदमी के लिए बदला है तो मन में एक डर .....
दोस्तों मै जिंदगी में कभी भी किसी से नही डरा हूँ ..... लेकिन किसी ब्लास्ट का शिकार हो के बे मौत नही मरना चाहता हूँ .... भगवान से यही दुआ है कि अगर कभी जान जाए तो देश की सेवा करते हुए जाए बस........ क्या खुफिया एजंसी इतनी निकम्मी हो गई है कि आम आदमी घर से निकलने के बाद वापस घर पहुच पाए ??????क्या ये मुमकिन है ????

Sunday, September 21, 2008

मैं कब बनूंगा आतंकवादी

मेरे जैसे लोग क्य़ों बन जाते हैं आंतकवादी....पढ़ने वाले ..लिखने वाले...परिवार से प्यार करने वाले ...जिंदगी से प्यार करने वाले...मौत से डरने वाले.....नौकरी करने वाले ...महत्वाकांक्षी...पैसा कमाने की जिद पाले हुए....दुनिया को खूबसूरत मानने वाले...कम्प्यूटर पर गिटपिट करेन वाले......मोबाइल इस्तेमाल करने वाले...लड़कियों से प्रेम करने वाले...,क्या है जो सारे रास्ते बदल देता है....सारे सपनों की दिशा बदल देता है ....सारे रिश्तों को जुनू से ढक देता है ...जिंदगी से मोहब्बत खत्म कर देता है .....लाश बनाकर छोड़देता है ...एक तारीख नवाज देता है ....जिस दिन होगी शरीर की मौत....मरने से पहले कितनी बार मरते होंगे मेंरे जैसे वो लोग जो बन गए आतंकवादी....पैसा तो नहीं होता होगा इसकी वजह....भविष्य बनाना तो नहीं होता इसका अंजाम....सिस्टम से तो मैं भी नाराज हूं फिर मैं क्यों नहीं बन पाता आतंकवादी...क्या उसे हासिल करने के लिए ज्यादा कलेजा चाहिए....क्या वो बनने के लिए जितना गुस्सा चाहिए मुझमें नहीं...क्या नाइंसाफी के शिकार लोग ही बनते हैं आतंकवादी....या जो अपराधी हैं वही बनते हैं आतंकवादी......ये सच है कि आंतकवादी क्रूर सिस्टम चाहिए...ये भी सच है कि आतंकवादी को खतरनाक बनाने के लिए एक नियोजित साजिश चाहिए....ट्रेन्ड टीचर चाहिए....ये सब मौजूद है...सारी वजहें मौजूद हैं ...सारे साधन मौजूद हैं.....फिर भी मैं नहीं बन सकता आतंकवादी....क्योंकि मैं नहीं लेता नफरत से इनर्जी....दहशत फैलाने के लिए चाहिए नफरत.चारों तऱफ फैली और मेरे अंदर बसी नफरत अबतक मेरे चलने फिरने सोचने समझने की वजह नहीं बना पाई है ....जबतक ऐसा है मैं नहीं बन सकता आतंकवादी ....

Saturday, September 20, 2008

जांबाजी कही बिकती नही .....

जोश, जज्बा और देशभक्ति कही से खरीदी नही जाती .....ये पैदा होती है अपने देश की मिटटी के जुडाव से .....ये पैदा होतो है अपने परिवार के संस्कारो से ......दिल्ली पुलिस के जांबाज पुलिस इंस्पेक्टर शहीद मोहन चंद शर्मा को शत - शत नमन....जनवरी २००८ को राष्ट्रपति द्वारा मैडल लेते समय देखने वालो में कोई यह नही सोचा होगा की यह उनके लिए आखिरी मैडल होगा ....लेकिन आज यह सही है .....कारगिल हो या फ़िर कोई और जंग या कोई पुलिसिया मुठभेड़ हर जगह ये आतंकवादी या क्रिमिनल मरते है तो अखबार , न्यूज़ चैनल अपनी भड़ास निकालने पहुच जाते है ...स्टोरी बानाने का सिलसिला चल पड़ता है .....लोग भीड़ बढाते है नारे बाजी करते है ..स्थानीय भी राजनीतिक रोटी सेकने पहुच जाते है .....आज एक पुलिस का जवान शहीद हुआ है ....खबरों में इनकी शहादत को तव्वजो दी गई है लेकिन शायद इससे ज्यादा तव्वजो दी गई है उस ख़बर को जो मुठभेड़ से जुदा था ...हर पत्रकार बंधू अपने अखबार या चैनल के लिए सबसे पहले ब्रेकिंग करना चाहता था ....शायद नौकरी के लिए यह जरुरी भी था........निवेदन है इन पत्रकार भाइयो से की इस जांबाज इंस्पेक्टर के परिवार की स्थिति के बारे में भी कुछ दिखाए ....

Friday, September 19, 2008

आतंकवाद में समाज की भूमिका ......

ब्लास्ट होता है लोग मरते है फ़िर स्थिति सामान्य होती है ...समय के साथ लोगो की दिनचर्या भी सामान्य हो जाती है......कुछ लोगो को पुरस्कार मिलता है तो कुछ लोगो को मुवावजा ...क्या इसके पीछे कोई यह सोचता है कि उन लोगो का क्या होता है जो इसके शिकार होते है ......क्या इन सब के बाद सुरक्षा व्यवस्था सुधर जाती है ? नही वही ढाक के तीन पात वाली स्थिति चलती है .....आख़िर पुलिस क्या - क्या करे किस -किस को खंगाले .....जब भी कोई इनकाउंटर होता है तो कुछ समाज के ठेकेदार या फ़िर कहा जाय कि ये सामाजिक लोग ये जरुर कहते फिरेंगे कि ये इनकाउंटर पूर्व नियोजित था .....या कुछ मानवाधिकारी बंधू कूद के आ जायेंगे कहेंगे कि यह मानवाधिकार के खिलाफ है .......आख़िर में हम ये सवाल करते है कि ये सामाजिक लोग और मानवाधिकारी लोग उस समय कहा जाते है जब ब्लास्ट होता है ? पुलिस तो जो भी कर रही है कही न कही से जनता कि और देश की भलाई ही कर रही है .....अभी हाल में एक फ़िल्म आई थी वेडनेसडे जिसमे नसरुद्दीन शाह ने एक आम आदमी कि भूमिका निभाई थी ....वो आम आदमी मुंबई ब्लास्ट से परेशान था .....उसने आतंकवादियों के खिलाफ वो कदम उठाया जो आतंकवादी देश के खिलाफ उठाते है .....अगर आज देश का हर आम आदमी इस फ़िल्म के हीरो कि भूमिका निभाने लगे तो ......देश कि सुरक्षा एजंसियों का क्या होगा ?

Saturday, September 13, 2008

आखिर कितनी बलि लेंगे गृहमंत्री साहब ?

" आज दिल्ली में धमाके हुए हैं और उसमें अब तक जो हमारे पास मालूम्मात आई है उसके मुताबिक 18 लोगों की जानें गई हैं.. जिन्होंने भी ये किया है वो इंसानियत के शत्रु हैं, हमारे देश के शत्रु हैं, औऱ हमारे यहां की शांतता में खलल डालना चाहते हैं.. ऐसा करने वालों की हम घोर भर्त्सना करते हैं...जिनके घरवालों की मृत्यु हुई है...हम उनके प्रति हार्दिक संवेदना प्रगट करते हैं...जिन लोगों ने भी ये किया है... उन्हें भारत के कानून के हिसाब से कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जाएगी..." ये सारे अल्फाज़ हमारे देश के काबिल गृहमंत्री शिवराज पाटिल के मुंह से निकले हैं। जो दिल्ली में हुए पांच धमाकों पर अपनी रुटीन बाइट देते हुए उन्होंने कहे। अब तो उन्हें इसकी आदत सी पड़ गई है..और धमाकों के बाद दिए जाने वाले बयान तो उन्हें जुबानी याद हो गए हैं... बस जगह और मरने वालों की संख्या में अपडेट लेकर हेर फेर कर देते हैं। अयोध्या, वाराणसी,लखनऊ, दिल्ली, फैजाबाद, मुंबई, मालेगांव, हैदराबाद, अजमेर, जयपुर, अहमदाबाद, सूरत, और एक बार फिर दिल्ली। ये स्वर्णिम इतिहास है यूपीए सरकार का। महज पांच साल में अमन के फरिश्तों की इस फौज ने देश को लाल रंग में रंग दिया है। हर धमाके के बाद..सूट बूट पहने हमारे गृहमंत्री साहब मीडिया से मुखातिब होते हैं..और वही घिसी पिटी बातें दोहरा जाते हैं। उनके बयान सुनकर लगता ही नहीं कि देश का गृहमंत्री बोल रहा है। ऐसा लगता है.. धमाकों से हैरान परेशान पुलिस का कोई मामूली प्रवक्ता अपनी सफाई दे रहा है... क्या यही सलीका है एक गृहमंत्री के बयान देने का। शिवराज पाटिल साहब कितने भोलेपन से कह देते हैं, कानून अपना काम कर रहा है..। धमाकों के बाद राज्य सरकार औऱ केन्द्र के बीच जो कुत्ते बिल्ली की लड़ाई शुरु हो जाती है... वो बताता है कि कोई भी आम आदमी की जिंदगी की हिफाजत की गारंटी लेने को तैयार नहीं है। सुरक्षाबलों की टुकड़ी से लैस बंगलों में रहने वाले..और बुलेटप्रूफ गाड़ियों में सैर करने वाले इन नेताओं को भला क्या मालूम...। कैसा लगता है एक शख्स को हजारों किलोमीटर
दूर अपने घरवालों को धमाके के बाद ये बताते हुए कि इस बार भी वो बच गया है। मिस्टर शिवराज पाटिल अगर आप निहायत ही गांधियाना अंदाज में हमें ये बताने की कोशिश कर रहे हैं कि अब हिंदुस्तान भी अफगानिस्तान,इराक, फलस्तीन औऱ पाकिस्तान बन चुका है...जहां लोगों को धमाकों औऱ गोलीबारी के बीच जीने की आदत पड़ गई है... और हमें भी
इसके साथ ट्यूनिंग बना लेनी चाहिए... तो आपको बता दें, आप गलतफहमी में हैं.. कि आप यूं हीं आवाम की लाशों पर खड़े होकर शांतिपूर्वक भाषण देते रहेंगे...और हम इंतजार करते रहेंगे कि अब हमारी सरकार आतंकवादियों को सबक सिखाएगी। हमें मालूम है... कश्मीर से लेकर इस्लामी आतंकवाद पर बोलते हुए आपका गला फंस जाता है। मगर आप ये भी समझ लीजिए.. न्यूक्लियर डील के सब्जबाग दिखाकर अगली बार आप सत्ता तक नहीं पहुंच पाएंगे...। बेगुनाहों की जिंदगी से खेलने वाले हिजड़ों को तो ये जनता हर बार बताती है... कि उनकी औकात कितनी है। मगर, क्या आपको ये समझ में नहीं आता इस्लाम और जेहाद के नाम पर खून की होली खेलने वालों का कोई मजहब नहीं है... फिर वोटबैंक की चिंता कैसी...किसी भी समुदाय का तुष्टिकरण कैसा। आखिर बेखौफ जीने के लिए कितनी और बलि देनी होगी हमें..।
कम से कम यही साफ कर दीजिए....।

Thursday, September 11, 2008

मिथिलेश...तुमने छाया को क्यों मारा ?

आखिर उसने तुम्हारा क्या बिगाड़ा था। ऐसी कौन सी खता कर दी थी, जिसकी कीमत उसे जान देकर चुकानी पड़ी। यही ना कि वो आंख बंद कर तुम पर यकीन करती रही। क्या उसकी गलती ये थी। तुम्हारी बातें उसने ना केवल सुनीं बल्कि उन पर यकीन भी किया। या फिर तुमने उसे जो कुछ दिखाया, सुनाया, उसने उन पर सवाल खड़े नहीं किए। बस सब कुछ मानती गई। पर इसमें उसकी क्या गलती है। उसकी अभी उम्र ही क्या थी। लगातार दो दिन तक तुम उसे डराते रहे। धमकाते रहे, बस मौत करीब है। और वो तुम्हारी धमकियों को सच मानती रही। जी हां, ये कहानी है..16 साल की उस मासूम छाया की, जो पिछले दो दिनों से न्यूज चैनल पर चल रही प्रलय की खबरों पर यकीन करने लगी थी...। ये लड़की मध्य प्रदेश में राजगढ़ जिले की सारंगपुर कस्बे की रहने वाली थी...। जेनेवा में होने वाला महाप्रयोग.. उसके लिए सचमुच का प्रलय बनकर आया। क्योंकि न्यूज चैनलों ने इस खबर को बेचने की कोशिश में डर, खौफ और दहशत का जो माहौल बनाया था.. उसमें ऐसा होना तय था। अगर अब ये न्यूज चैनल प्रलय और छाया की मौत को आपस में जोड़कर एक नया टीआरपी शो गढ़ दें तो कोई हैरानी नहीं होनी चाहिए। दो दिनों से छाया न्यूज चैनल पर चल रहे महाप्रलय शो से चिपकी रही। वो भी उस वक्त इन चैनलों के टीआरपी का हिस्सा बनी। जिसके लिए ये सारा खेल खेला गया। लेकिन ज्यों ही महाप्रलय का बुधवार आया। उसने भयावह मौत मरने की बजाए। सल्फास की गोलियां खाकर मरना पसंद किया। उसे इंदौर के अस्पताल में ले जाया गया, बचाने की कोशिशें भी हुईं। मगर जिसे मारने की साजिश दर्जनों न्यूज चैनलों ने रची हो। भला उसकी जान कहां बचने वाली थी। उधर जेनेवा में महाप्रयोग शुरु हुआ। इधर चैनलों ने दिखाना शुरु किया। क्या सचमुच मिट जाएगी धऱती। मगर जैसे जैसे दिन चढ़ता गया। चैनल के कर्ताधर्ताओं को लगा। अब पब्लिक जान चुकी है,प्रलय-वलय कुछ नहीं आने वाला। तो इन चैनलों ने अपने स्टूडियो में एक जानकार को बिठा लिया। और लोगों को लगातार ये बताते रहे कि उन्हें डरने की कोई जरुरत नहीं। प्रलय जैसा कुछ भी नहीं होने जा रहा। वाह रे मायावी न्यूज चैनल। काश,गिरगिट की तरह बदलते चैनल्स का असली रंग वो देख पाई होती..तो शायद एक जिंदगी टीआरपी की भेंट नहीं चढ़ती। इंदौर पुलिस ने 16 साल की छाया की खुदकुशी के सिलसिले में मामला भी दर्ज कर लिया है और छानबीन भी शुरु कर दी है। मगर क्या सचमुच गुनहगारों को सजा मिल पाएगी। आखिर छाया की मौत की जिम्मेदारी कौन लेगा। उतनी ही तेज आवाज में चीखकर कौन कहेगा..हां मैंने मारा है छाया को..जितनी चीख पुकार के अंदाज में प्रलय की बात कर लोगों को डराया गया। ये तमाम सवाल हर उस शख्स से है। जो मीडिया का हिस्सा है। मुझसे, आपसे और भी दूसरों से जिन्हें नाम से मैं नहीं जानता। मिथिलेश का नाम इसलिए लिया क्योंकि मैं जानता हूं..मेरे चैनल पर महाप्रलय की भविष्यवाणी जिस प्रोग्राम में की गई। वो उसने बनाया था। मैं ये भी जानता हूं। जानते समझते हुए भी कि वो गलत कर रहा है, उसने अपनी ओर से कोई कोशिश नहीं छोड़ी थी,वो नायाब शब्द तलाशने में जिनसे सचमुच प्रलय और तबाही का भयावह मंजर दिमाग में डाला जा सके। क्योंकि इस वक्त उसके लिए ये महज एक असाइनमेंट था। और आखिरकार उसके जैसे पचासों लोगों की मेहनत रंग लाई। कम से कम छाया के परिवार वालों के लिए तो प्रलय आ ही गई। मैं शर्मिंदा हूं। मैं भी उसी जमात का हिस्सा हूं जो दो वक्त की रोटी के जुगाड़ में किसी की जिंदगी से खेलने से भी बाज नहीं आते। मिथिलेश, मैं जानता हूं..तुम्हारा वश होता तो तुम ऐसा प्रोग्राम कभी नहीं बनाते...। हकीकत तो ये है, गुनहगार मैं भी हूं..मैंने उस रात तुमसे कहा था...'बहुत बढ़िया प्रोग्राम बनाया'। काश,हम जान पाते खबर से खेलना बहुत खतरनाक होता है।